संजीवनी चीनी मिल को अगले आदेश तक सस्ते दामों पर मोलासेस बेचने से रोका गया

232

पोंडा: रजिस्ट्रार ऑफ़ कॉपरेटिव सोसाइटीज (RCS) ने संजीवनी सहकारी चीनी मिल को अगले आदेश तक करीब 1000 टन मोलासेस की नीलामी को रोकने का निर्देश दिया है। संजीवनी चीनी मिल के एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने दावा किया कि, RCS ने ही पहले मोलासेस की नीलामी को मंजूरी दी थी। टाइम्स ऑफ़ इंडिया डॉट कॉम से एक अधिकारी, जो अपनी पहचान गोपनीय रखना चाहते है, उन्होंने कहा कि, वे लंबे समय तक मिल में मोलासेस नहीं रख सकते थे, और RCS से अनुमति लेने के बाद ही नीलामी प्रक्रिया शुरू की गई थी। केवल एक पार्टी थी, जिसने दिसंबर 2019 के अंत तक मिल द्वारा मंगाई गई निविदा पर प्रतिक्रिया दी थी, इसलिए हमें बोली स्वीकार करनी पड़ी थी – भले ही उनके द्वारा उद्धृत दर गोवा डेयरी की दर की तुलना में बहुत कम थी।

13 दिसंबर, 2018 और 28 फरवरी, 2019 के बीच मिल के पिछले पेराई सत्र के दौरान, कुल 1,088 टन मोलासेस उत्पन्न हुआ था, और मिल इसे बेचने का प्रयास कर रही थे। हालाँकि, बोली जीतने वाली महाराष्ट्र के कोल्हापुर की सिद्धि एंटरप्राइजेज फर्म ने 2,550 रुपये प्रति टन की दर से, बहुत कम कीमत पर मोलासेस हासिल की, मिल के श्रमिकों ने पहले सौदे के बारे में अपना संदेह जताया था। बाद में, गन्ना किसानों ने भी इस कदम का विरोध किया।

मोलासेस को चारा तैयार करने में भी इस्तेमाल किया जाता है और गोवा डेयरी इसे संजीवनी चीनी मिल से 9,500 रुपये प्रति टन की दर से खरीद रही है। नतीजतन, मिल के श्रमिकों ने कहा, कोल्हापुर स्थित कंपनी के लिए इतनी सस्ती दर पर मोलासेस बेचना उचित नहीं था। इस सौदे पर संदेह होने के बाद, RCS ने मिल को नीलामी रोकने का निर्देश दिया। चीनी मिल के अधिकारी ने कहा कि, गोवा डेयरी में पर्याप्त मात्रा में मोलासेस स्टोर करने के लिए पर्याप्त जगह नहीं है, और इसलिए सभी स्टॉक खरीदने में असमर्थ हैं। डेयरी के प्रशासक अरविंद खूंटकर ने कहा कि, उनके पास पहले से ही मोलासिस का पर्याप्त स्टॉक है जो फरवरी तक चलेगा।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here