यूपी में कल से गन्ना क्रशिंग होगा शुरू, पिछले सीझन का 78 अरब रूपये अभी भी बकाया

1162
लखनऊ: चीनी मंडी 
देश के शीर्ष उत्पादक राज्य, उत्तर प्रदेश में गन्ना क्रशिंग कल  (27 अक्टूबर) से शुरू होने वाली है, जो पिछले 2017-18 सत्र के 78 अरब रुपये के किसानों के बकाया की छाया में है। मेरठ में मोदी ग्रुप की चीनी मिल ने किसानों को गन्ना की आपूर्ति के लिए सूचि जारी कि है और शनिवार से क्रशिंग शुरू करने के लिए तैयार है, जिससे मौजूदा सीजन में यूपी में पहली मिल शुरू हो गई है।
इस महीने की अंत तक लगभग 30 मिलें परिचालित हो जाएंगी…
यूपी चीनी  कमिश्नर संजय भोसरेड्डी ने कहा कि,  इस महीने के अंत तक, मेरठ, सहारनपुर और मोरादाबाद के क्षेत्रों सहित राज्य के पश्चिमी और केंद्रीय क्षेत्रों में लगभग 30 मिलें परिचालित हो जाएंगी। हमें आशा है कि 10 नवंबर तक यूपी में अधिकांश मिलें परिचालन में होंगी। उत्तर प्रदेश में कुल 119 मिलें हैं, जिनमें से 94 निजी तौर पर स्वामित्व में हैं और 24 सहकारी समितियों द्वारा संचालित हैं। उत्तर प्रदेश के  कुछ पश्चिमी  जिलों में देर से बारिश और  उच्च  तापमान  से  गन्ना  फसल की परिपक्वता में देरी हुई है। पिछले 4-5 दिनों में, रात का तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से नीचे गिरना शुरू हो गया है और दिन और रात के तापमान में उल्लेखनीय अंतर है, जो परिपक्वता की प्रक्रिया को तेज करेगा और परिणामस्वरूप तेजी से क्रशिंग ऑपरेशंस और उच्च उत्पादन भी होगा ।
गन्ना क्षेत्र पिछले साल की तुलना में 18 % जादा
इससे पहले, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गन्ना विभाग को निर्देश दिया था कि,  मिलें अक्टूबर के अंत तक क्रशिंग शुरू कर दे ताकि किसान गेहूं की बुवाई के लिए समय पर अपने खेतों को खाली कर सकें। इस वर्ष, यूपी गन्ना क्षेत्र 2.67 हेक्टेर अनुमानित है, 2017-18 के दौरान लगभग 2.2 हेक्टर की तुलना में 18 प्रतिशत जादा  है।   जब यूपी ने 12 मिलियन टन से अधिक चीनी उत्पादन का उत्पादन किया था, तब किसानों को  354 अरब रूपयों का  भुगतान किया था  । इस सीजन में उच्च उत्पादन के साथ-साथ किसानों का भुगतान भी  पिछले साल के रिकॉर्ड स्तर पर शीर्ष पर होने की संभावना है ।
सॉफ्ट लों डिफॉल्टर्स को 12 फीसदी की दर से ब्याज भुगतान करना पड़ेगा 
राज्य की मिलों को नवंबर तक अपना बकाया चुकता करने के लिए  लिए कहा गया है । राज्य ने पहले भुगतान संकट से चीनी क्षेत्र को बेलाउट करने के लिए 55 अरब रुपये आवंटित किए थे। इसमें सॉफ्ट लोन के रूप में निजी चीनी मिलों को 40 अरब रुपये की पेशकश की गई। हालांकि, उन निजी मिलों को सॉफ्ट लोन की पेशकश की जाएगी जिनके भुगतान अनुपात पिछले क्रशिंग सीजन के दौरान 30 प्रतिशत से अधिक था। सॉफ्ट ऋण की पेशकश पांच साल की अवधि के लिए की जाएगी। डिफॉल्टर्स को 12 फीसदी की दर से ब्याज भुगतान करना पड़ेगा ।
सॉफ्ट लोन आवदेन समय सीमा 31 अक्टूबर….
मिलों के पास 31 अक्टूबर तक बैंकों के साथ ऋण के लिए आवेदन करने का समय है, जिन्हें 10 नवंबर तक इसे संसाधित करना और स्वीकृति देना है। योगी आदित्यनाथ ने स्वीकार किया है कि, अंतरराष्ट्रीय चीनी की कीमतों में गिरावट के चलते घरेलू चीनी क्षेत्र चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा है।
SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here