अगले हफ्ते तक हरियाणा की सभी सहकारी चीनी मिलों में गन्ने की पेराई शुरू हो जाएगी

1153

चंडीगढ़: हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल ने पानीपत चीनी मिल के 64 वें पेराई सत्र का उद्घाटन करते हुए कहा कि, अगले हफ्ते तक राज्य की सभी सहकारी चीनी मिलों में गन्ने की पेराई शुरू हो जाएगी। इसके अलावा, इस बार चीनी मिलों के पेराई लक्ष्य को बढ़ाने के लिए भी प्रयास किए गए हैं। उन्होंने कहा की, पानीपत जिले के किसानों को नई चीनी मिल का तोहफा मिलेगा, जिसकी क्षमता मार्च के बाद 5,000 टीसीडी होगी। इस चीनी मिल के निर्माण से पानीपत जिले के साथ-साथ अन्य आसपास के जिलों को भी फायदा होगा। इस नवनिर्मित चीनी मिल में पेराई क्षमता 50,000 क्विंटल प्रतिदिन होगी।

उन्होंने कहा कि, पानीपत चीनी मिल हरियाणा की एकमात्र चीनी मिल है, जहां पुरानी और नई दोनों तकनीकों का इस्तेमाल किया गया है। इस चीनी मिल को कई बार राष्ट्रीय और राज्य स्तर के पुरस्कार मिले हैं, लेकिन यह सीजन इस मिल का आखिरी पेराई सत्र होगा। पानीपत के गांव डाहर में जल्द ही नई चीनी मिल तैयार होगी। इस चीनी मिल की पेराई क्षमता पुरानी चीनी मिल की तुलना में अधिक होगी। उन्होंने किसानों को बताया कि, गन्ना विशेषज्ञों की सलाह पर, किसानों को अपने खेतों में उच्च गुणवत्ता का गन्ना लगाना चाहिए। चीनी मिल के पेराई सत्र को सफल बनाने में किसानों का योगदान है, और चीनी मिल के अधिकारियों और कर्मचारियों का सहयोग भी उल्लेखनीय रहा है। इसलिए, चीनी मिल के अधिकारियों और कर्मचारियों को उनकी वरिष्ठता के आधार पर सभी सुविधाएं दी जानी चाहिए। कोरोना महामारी के कारण नई चीनी मिल के निर्माण में देरी हुई है, लेकिन अधिकारी और कर्मचारी इस काम को पूरा करने में लगे हैं।

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here