चक्रवाती तूफ़ान ‘डे’ ओड़ीशा पर टकराने के बाद हुआ कमज़ोर; इस समय मध्य ओड़ीशा पर डिप्रेशन के रूप में मौजूद

607

जैसा अनुमान लगाया गया था, चक्रवाती तूफ़ान ‘डे’ मध्यरात्रि में दक्षिणी ओड़ीशा के तटों पर गोपालपुर के पास से ज़मीनी भागों पर पहुंचा। लैंडफॉल के 6 घंटों के बाद तूफ़ान ‘डे’ कमज़ोर हुआ और अब डीप डिप्रेशन के रूप में ओड़ीशा पर एक्टिव है। इस समय यह ओड़ीशा के आंतरिक भागों पर है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार यह सिस्टम अब पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी दिशा में लगातार आगे बढ़ता रहेगा और धीरे-धीरे इसकी क्षमता भी कम होती जाएगी। अनुमान है कि शुक्रवार की शाम तक यह और कमज़ोर होकर डिप्रेशन बन जाएगा।

तूफ़ान के कारण ओड़ीशा में पहले ही भीषण बारिश देखने को मिली है। यह भले ही कमज़ोर हो रहा है लेकिन ओड़ीशा और इससे सटे उत्तरी आंध्र प्रदेश में मूसलाधार बारिश अभी भी जारी रहेगी। आज दिन भर ओड़ीशा और उत्तरी आंध्र प्रदेश के अधिकांश भागों में 40 से 50 किलोमीटर प्रतिघण्टे की रफ्तार से हवाएँ भी चलती रहेंगी। हवाओं की रफ्तार 65 किलोमीटर तक पहुँच सकती है।

स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार अगले 24 घंटों तक पश्चिम बंगाल से लेकर ओड़ीशा और आंध्र प्रदेश के तटों तक समुद्र में काफी अधिक हलचल बनी रहेगी जिसके चलते इन भागों में समुद्री गतिविधियों को फिलहाल टालना ही बेहतर होगा।

अब यह पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ता रहेगा जिसके चलते गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ क्षेत्र और तेलंगाना में बारिश की गतिविधियां तेज़ हो जाएंगी। यही नहीं मध्य भारत के बाकी हिस्सों, दक्षिण भारत के भागों के साथ-साथ उत्तर भारत के भागों में भी बारिश की गतिविधियां इस सप्ताह के आखिर में तेज़ हो जाएंगी।

स्काइमेट ने जैसा अनुमान लगाया था, बंगाल की खाड़ी के मध्य में बना डीप डिप्रेशन और प्रभावी होते हुए चक्रवाती तूफान बन गया। इसे डेये नाम दिया गया है। रात्रि के 9:00 बजे यह बंगाल की खाड़ी के पश्चिमी-मध्य और इससे सटे उतरी-मध्य भागों पर दिखाई दे रहा है। ओडिशा के गोपालपुर के दक्षिण-पूर्व में लगभग 100 किलोमीटर दूरी पर है। जबकि आंध्र प्रदेश के कलिंगापट्टनम से इसकी दूरी पूर्व में तकरीबन 160 किलोमीटर है। पश्चिम बंगाल में कोलकाता से दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम में 450 किलोमीटर की दूरी पर इस समय बना हुआ है।

स्काईमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार चक्रवाती तूफान लगभग 24 किलोमीटर प्रति घंटे की अच्छी रफ्तार से पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ रहा है। यह सिस्टम मध्य रात्रि में ओडिशा के गोपालपुर के पास से तटों को पार कर सकता है। इसके प्रभाव से ओडिशा और आंध्र प्रदेश के शहरों में पहले से ही भीषण बारिश शुरु हो चुकी है और तूफानी हवाएं चल रही हैं।

आज रात में ओडिशा और आंध्र प्रदेश कई शहरों में मूसलाधार वर्षा होने की संभावना है। जिस समय यह ओडिशा के तटों को पार कर रहा होगा उस दौरान गोपालपुर और आस-पास के तटीय भागों पर हवा की रफ्तार 80 से 90 किलोमीटर प्रति घंटे की चलेगी। कुछ जगहों पर हवा की गति 100 किलोमीटर तक जा सकती है। अनुमान है कि भीषण बारिश और तूफानी हवाओं के साथ बिजली कड़कने और बादलों की गर्जना भी होगी।

चक्रवाती तूफान डेयेके प्रभाव से कोलकाता सहित पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में अगले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश होने की संभावना है। चक्रवाती तूफान डेये ओड़ीशा के तटों से लैंडफॉल करने के लगभग 6 घंटों के भीतर कमजोर हो जाएगा। शुरुआत में यह दीप डिप्रेशन बनेगा और उसके बाद कल दोपहर तक इसके और कमजोर होकर डिप्रेशन में तब्दील होने की संभावना है। हालांकि इसकी क्षमता इतनी रहेगी कि देश के अधिकांश हिस्सों को अगले कुछ दिनों के दौरान अच्छी बारिश देकर ही निष्प्रभावी होगा।

 

SOURCESkymetweather

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here