‘विझी’ डेली शुगर मार्केट अपडेट – 31/05/2021

406

31 मई, 2021 को जारी अधिसूचना में सरकार के खाद्य मंत्रालय ने जून के लिए देश के 555 मिलों को चीनी बिक्री का 22 लाख टन कोटा आवंटित किया है।

बाजार विशेषज्ञों के अनुसार, कोरोना मामलों में उछाल के वजह से विभिन्न राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है और जिसके कारण बाजार में दबाव देखने को मिल सकता है। कई राज्यों में प्री-मानसून बारिश के बीच मिलर्स को बिकवाली के दबाव का सामना करना पड़ सकता है।

इस बार पिछले माह की तुलना में समान चीनी आवंटन की गयी है। खाद्य मंत्रालय द्वारा मई 2021 के लिए 22 लाख टन चीनी बिक्री कोटा की मंजूरी दी गयी थी। वही दूसरी ओर जून 2020 की तुलना में इस बार ज्यादा चीनी आवंटित की गई है। सरकार ने जून 2020 के लिए 18.50 लाख टन चीनी आवंटित की थी।

देश के विभिन्न हिस्सों में कोविड -19 मामलों में वृद्धि और राज्यवार लॉकडाउन के साथ घरेलू बाजार में कम मांग नहीं देखी जा रही है। चीनी अधिशेष, लोजिस्टिक्स ने समस्या और बढ़ा दी है। चीनी निर्यात सब्सिडी में कटौती के बावजूद चीनी मिलों ने बिना सरकारी सहयता से निर्यात जारी रखा है और इस सीजन 65 लाख टन चीनी निर्यात होने का अनुमान है.

महाराष्ट्र में गन्ना पेराई सत्र खत्म हो चूका है और इस सीजन में 1012 लाख टन गन्ना पेराई कर 106.3 लाख टन चीनी उत्पादन किया गया है।

महाराष्ट्र: S/30 चीनी का व्यापार 3110 रुपये से 3140 रुपये प्रति कुंतल रहा और M/30 का व्यापार 3220 रुपये प्रति कुंतल रहा. रीसेल मार्केट में S/30 का व्यापार 3025 रुपये से 3050 रुपये रहा. वही M/30 का व्यापार 3050 रुपये से 3120 रुपये प्रति कुंतल रहा.

कर्नाटक: S/30 चीनी का व्यापार 3160 और M/30 का व्यापार 3210 रूपये रहा.

उत्तर प्रदेश: M/30 चीनी का व्यापार 3300 से 3370 रुपये रहा.

गुजरात: सूत्रों के अनुसार, अधिकांश मिलों ने तीसरे पक्ष के निर्यात के लिए अपना कोटा दिया है इसलिए बाजार में ज्यादा स्टॉक उपलब्ध नहीं है.

तमिलनाडु: S/30 चीनी का व्यापार 3260 रुपये से 3300 रुपये रहा और M/30 चीनी का व्यापार 3350 रूपये रहा.

(यह सभी दरें GST छोड़कर है)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here