डालमिया भारत शुगर की इथेनॉल उत्पादन क्षमता बढ़ाने की योजना

230

मुंबई: डालमिया भारत शुगर एंड इंडस्ट्रीज की इथेनॉल उत्पादन क्षमता अगले जनवरी तक मौजूदा आठ करोड़ लीटर से बढ़ाकर 15 करोड़ लीटर सालाना करने की योजना है। यह कदम इथेनॉल सम्मिश्रण को 2025 तक लगभग आठ प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत करने के केंद्र सरकार के निर्णय के अनुरूप है। इस क्षमता विस्तार के साथ डालमिया भारत शुगर करीब 1.50 लाख टन चीनी को इथेनॉल उत्पादन के लिए इस्तेमाल करेगी, जबकि अभी यह 60,000 टन है। विस्तार कंपनी के जवाहरपुर, निगोही और कोल्हापुर प्लांट में होगा, साथ ही रामगढ़ में एक नई डिस्टलरी स्थापित की जाएगी।

कंपनी का मानना है कि, केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में 2025 तक इथेनॉल सम्मिश्रण कार्यक्रम को आगे बढ़ाने की घोषणा से देश और चीनी उद्योग दोनों को फायदा होगा। इस कदम से उद्योग को कार्बन उत्सर्जन में कटौती करने और विदेशी मुद्रा बचाने में मदद मिलेगी। साथ ही, चूंकि सरकार 2023 के बाद विश्व व्यापार संगठन के मानदंडों के कारण चीनी निर्यात पर सब्सिडी प्रदान नहीं कर सकती है, चीनी निर्माता अब उस चीनी को इथेनॉल उत्पादन के लिए डायवर्ट करने में सक्षम होंगे।

डालमिया भारत शुगर की तीन चीनी मिलें उत्तर प्रदेश (रामगढ़, जवाहरपुर और निगोही) में और दो महाराष्ट्र (कोल्हापुर और सांगली) में स्थित हैं।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here