केरल में बारिश से मरने वालों की संख्या 24 हुई, 11 जिलों में येलो अलर्ट जारी

53

तिरुवनंतपुरम : केरल में बारिश कहर बनकर आई है। शनिवार से मूसलाधार बारिश के कारण आई अचानक आई बाढ़ और भूस्खलन में कम से कम 24 लोगों की मौत हो गई है। रविवार दोपहर तक बारिश थम गई, लेकिन अधिकारियों ने भूस्खलन के खतरे को लेकर कड़ी निगरानी रखी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने सोमवार के लिए 11 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की एक टीम को पठानमथिट्टा, अलाप्पुझा, इडुक्की, एर्नाकुलम, त्रिशूर और मलप्पुरम में तैनात किया गया है। इसके अलावा, पांच और टीमों को इडुक्की, कोट्टायम, कोल्लम, कन्नूर और पलक्कड़ जिलों में तैनात करने का निर्देश दिया गया है।

मौसम विशेषज्ञों का दावा है कि, कोट्टायम और इडुक्की जिलों में कई स्थानों पर भारी और बेमौसम बारिश का एक कारण बादल फटने की संभावना है। केरल के अधिकारियों ने कहा, अब तक कोट्टायम जिले से 13 और इडुक्की से नौ शव बरामद किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) द्वारा जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार, इडुक्की जिले के दो लोग अभी भी लापता हैं और बचाव अभियान सोमवार को भी जारी रहेगा। आईएमडी ने अपने पूर्वानुमान में कहा है कि सोमवार शाम तक भारी बारिश जारी रहेगी।भारी बारिश के कारण इडुक्की और कोट्टायम जिलों में दो बड़े भूस्खलन हुए।सीएमओ की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि भारतीय सेना की दो टीमें क्रमश: तिरुवनंतपुरम और कोट्टायम में तैनात हैं।

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि मौसम विभाग ने 21 अक्टूबर तक पूरे केरल में गरज के साथ बौछारें पड़ने और तेज हवाएं चलने की चेतावनी दी है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को विजयन को फोन किया और केरल के मौजूदा हालात पर चर्चा की।केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि केंद्र राज्य के लोगों को हर संभव सहायता प्रदान करेगा। उन्होंने ट्वीट किया कि सरकार भारी बारिश और बाढ़ के मद्देनजर केरल के कुछ हिस्सों में स्थिति की लगातार निगरानी कर रही है।राज्य के राजस्व मंत्री के राजन ने कहा कि जान गंवाने वालों के परिजनों को 4 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here