लॉकडाउन नियमों में ढील से देश में चीनी की मांग बढ़ने की उम्मीद

1005

नई दिल्ली : चीनी मंडी

लॉकडाउन के नियमों में ढील के साथ, चीनी की मांग बढ़ने की उम्मीद है। अब जब देश लॉकडाउन से अनलॉकिंग चरण में प्रवेश कर रहा है, और रेस्तरां और मॉल भी खोलने की अनुमति दी जा रही है, मई 2020 की तुलना में जून में चीनी की मांग में और वृद्धि होगी। इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) के अनुसार, चीनी मिलें मई के साथ-साथ पूरे जून के कोटे को बेचने में सक्षम हो सकती हैं। उत्तर भारत की चीनी मिलों ने मई के लिए दिए गए अपने मासिक कोटा के अनुसार चीनी बेची, लेकिन पश्चिम और दक्षिण भारत की चीनी मिलें चीनी बिक्री में असफल रही है। जिसके चलते सरकार ने मई कोटा का बिक्री समय बढ़ाया है और जून 2020 के लिए 18.5 लाख टन मासिक कोटा जारी किया है।

ISMA के अनुसार, देश भर की चीनी मिलों ने 1 अक्टूबर 2019 से 31 मई 2020 के बीच 268.21 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है। यह पिछले साल 31 मई 2019 तक उत्पादित 327.53 लाख टन से 59.32 लाख टन कम है। 31 मई 2019 को गन्ने की पेराई करने वाली 10 चीनी मिलों की तुलना में, इस वर्ष 31 मई 2020 को 18 चीनी मिलें गन्ने की पेराई कर रही हैं।

ISMA ने चालू सीजन के लिए 265 लाख टन उत्पादन का अनुमान लगाया था। हालाँकि, गूड और खांडसारी निर्माताओं ने लॉकडाउन होने के कारण बहुत पहले ही उत्तर प्रदेश में अपना परिचालन बंद कर दिया था, इससे काफी मात्रा में गन्ना चीनी मिलों को मिल गया था। इसके परिणामस्वरूप, उत्तर प्रदेश में मिलों द्वारा अतिरिक्त गन्ने की पेराई हुई है और चालू सीजन में मुख्य रूप से यूपी से अतिरिक्त 5 से 6 लाख टन चीनी उत्पादन होने की उम्मीद है। इसलिए, चालू वर्ष में चीनी उत्पादन लगभग 270 लाख टन होने की उम्मीद है। यह पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 60 लाख टन कम है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here