चीनी मिल शुरू करने को लेकर लिखित आश्वासन की मांग

238

सांगुएम: गन्ना किसानों ने गुरुवार को राज्य सरकार को आगामी फसल सीजन मुआवजा देने के लिए 15 दिन का ‘अल्टीमेटम’ दिया है। मिल की हालिया स्थिति के लिए राज्य सरकार को दोषी ठहराते हुए, किसानों ने सरकार से अपील की कि, संजीवनी चीनी मिल को फिर से शुरू किया जाए। वेडैम में आयोजित एक बैठक में, किसानों ने सरकार से संजीवनी चीनी मिल द्वारा इस साल पेराई सत्र शुरू करने के लिखित आश्वासन की मांग की। सरकार संजीवनी चीनी मिल को शुरू करने में विफल रहने पर गन्ना किसानों ने 10 साल के मुआवजे की मांग करने का फैसला लिया है।

गन्ना किसानों ने चीनी मिल के मुद्दे पर बैठक की थी। बैठक में कुछ सदस्यों ने गन्ना किसानों की रक्षा करने में विफल रहने के लिए सरकार की आलोचना की और गन्ना आपूर्ति के लिए देरी से भुगतान के लिए भी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। बैठक में आयतीन मस्कारेन्हास, मनोज पराईकर, कुशता गावकर , हर्षद प्रभुदेसाई, चंदन उनाडकर, संजय कुर्दिकर आदि ने संबोधित किया।प्रभावित किसानों ने आगामी कटाई के मौसम के लिए खड़ी फसल के लिए 3,600 रुपये प्रति टन के मुआवजे की मांग की।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here