चीनी MSP बढ़ाने के लिए सरकार से की गई मांग

674

पुणे : चीनी मंडी

नेशनल फेडरेशन ऑफ़ कोऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज़ ने चीनी उद्योग को आर्थिक संकट से बाहर निकलने के लिए सरकार से सॉफ्ट लोन के पुनर्गठन के साथ साथ चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य (MSP) में 200 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि करने की मांग की है। बुधवार को पुणे में वसंतदादा शुगर इंस्टीट्यूट के 43 वें वार्षिक समारोह में बोलते हुए फेडरेशन के प्रबंध निदेशक प्रकाश नाइकनवरे ने भी कहा कि, उन्हें अगले कुछ महीनों में चीनी के एक्स मिल प्राइस में धीमी वृद्धि की उम्मीद है।

नाइकनवरे ने कहा, खाद्य और नागरिक आपूर्ति राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे के साथ एक बैठक के दौरान, महासंघ ने संकेत दिया था कि, वर्तमान 3,100 रुपये प्रति क्विंटल MSP चीनी उत्पादन की लागत से बहुत कम है। हमारी बैठक के दौरान, हमने सरकार से MSP को बढ़ाकर 3,300 रुपये प्रति क्विंटल करने पर विचार करने के लिए कहा। इससे मिलों को अपने परिचालन के लिए अधिक तरलता बढ़ाने में मदद मिलेगी।

नाइकनवरे ने कहा, केंद्र सरकार की इथेनॉल नीति का राज्य में मिलें लाभ नहीं ले पाई क्योंकि बैंकों ने ऋण देने से इनकार कर दिया था। इसके अलावा फेडरेशन ने सरकार से मिलों के बाहर के पेट्रोल पंपों पर इथेनॉल मिलाने की अनुमति देने का आग्रह किया है ताकि उन्हें लोजिस्टिक्स लागत पर बचत करने में मदद मिल सकें।

चीनी MSP बढ़ाने के लिए सरकार से की गई मांग यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here