तमिलनाडु: वासुदेवनल्लूर में चीनी मिल शुरू नहीं होने से गन्ना अन्य चीनी मिलों में डाइवर्ट करने की मांग

मदुराई : कलेक्टर आर कन्नन ने कहा कि, चक्रवात बुरेवी के कारण विरुधुनगर जिले में 548.043 हेक्टेयर भूमि खराब हो गई थी। जिसके चलते चक्रवात से प्रभावित 953 किसानों को 1.08 करोड़ का मुआवजा दिया गया है। शुक्रवार को आयोजित ऑनलाइन किसान शिकायत निवारण बैठक में बोलते हुए, कन्नन ने कहा कि, कृषि विभाग ने 129.755 हेक्टेयर पर अपनी फसलों को खो चुके 246 किसानों को 24.75 लाख रुपये दिए है। इसी प्रकार, हॉर्टिकल्चर विभाग ने 48.288 हेक्टेयर से अधिक फसलों को हुए नुकसान के लिए 707 किसानों को 83.65 लाख का मुआवजा दिया है। संयुक्त निदेशक (कृषि), एस उदंतरामन ने स्पष्ट किया कि,अभी दिया गया मुआवजा आपदा प्रबंधन कोष से आया था और बीमित फसलों का मुआवजा बाद में आएगा।

इसके अलावा, पूर्वोत्तर मानसून के कारण खराब हुई फसलों का आकलन चल रहा था। कलेक्टर ने कहा कि ग्राम प्रशासनिक अधिकारियों को मुआवजे की मांग करने वाले किसी भी आवेदन को अस्वीकार नहीं करने के लिए कहा गया है। इस बीच, तमिलवा विवासायगल संगम नेता एन ए रामचंद्र राजा ने कहा कि क्षतिग्रस्त फसलों के आकलन के लिए विशेष शिविर लगाए जाने चाहिए क्योंकि जिले भर में आयोजित तीन दिवसीय शिविर से बहुत सारे किसान अनजान थे।

वह यह भी चाहते है कि कलेक्टर राज्य के अन्य चीनी मिलों को गन्ने का डायवर्जन करने का आदेश दें क्योंकि वासुदेवनल्लूर में धरनी चीनी मिल ने पेराई अब तक शुरू नहीं की है।

हालांकि, अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि पहले सप्ताह मार्च तक धरनी चीनी मिल में पेराई शुरू हो जाएगी।

Image courtesy of Admin.WS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here