चीनी की न्यूनतम बिक्री मूल्य (MSP) बढ़ाने की मांग

938

नई दिल्ली: देश में चीनी उद्योग अधिशेष चीनी की समस्या से त्रस्त है, इसलिए अब इससे बाहर आने के लिए वह सरकार से उम्मीद कर रहा है। नेशनल को-ऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज़ फेडरेशन (NCSFF) के अध्यक्ष दिलीप वलसे पाटील ने हाल ही में उद्योग में व्याप्त संकट पर चर्चा करने के लिए पीएम कार्यालय के अधिकारियों के साथ मुलाकात की।

अधिकारियों के साथ अपनी बैठक के दौरान, NCSFF ने मांग की कि मिलों को अपने वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए चीनी के MSP (न्यूनतम विक्रय मूल्य) को वर्तमान स्तर 31 रुपये प्रति किलो से बढ़ाया जाना चाहिए।

भारत में चीनी मिलों का दावा है कि चीनी उत्पादन की लागत 35 से 36 रुपये है, और इसलिए वे लम्बे समय से चीनी की न्यूनतम बिक्री मूल्य को बढ़ाने की मांग कर रहे है।

लोकसभा चुनाव से पहले बढ़ते गन्ने के बकाया से चिंतित सरकार ने 14 फरवरी, 2019 को चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य को 29 रुपये से 31 रुपये कर दिया था, जिससे मिलर्स को किसानों का बकाया चुकता करने में थोड़ी राहत मिली थी।

घरेलू बाजार में अधिशेष के कारण इस साल चीनी की कीमतें कमजोर बनी हुई हैं। देश की चीनी मिलें दावा करती आ रही है की चीनी के अत्यधिक उत्पादन और चीनी की कीमतों में गिरावट के कारण वे गन्ना किसानों को बकाया भुगतान करने में विफल रहे।

ISMA, का अनुमान है कि देश के लिए चालू वर्ष में चीनी उत्पादन 33 MMT, पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 5,00,000 टन से अधिक हो सकता है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here