महामारी के बावजूद गन्ना समेत अन्य फसलों की कटाई जारी

248

नई दिल्ली: सरकार ने कहा कि, COVID-19 महामारी की गंभीर  स्थिति के बावजूद देश में 81 प्रतिशत से अधिक गेहूं की कटाई की गई है, जबकि दाल और तिलहन की कटाई को पूरा कर लिया गया है। किसान 2020-21 फसल वर्ष (जुलाई-जून) में बोई जाने वाली रबी (सर्दियों) की फ़सल काट रहे हैं। जिसमें गेहूं मुख्य रबी फसल है। गन्ने के लिए, कुल बोये गए 48.52 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में से, छत्तीसगढ़, कर्नाटक और तेलंगाना में कटाई पूरी हो चुकी है। बिहार, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में 98 प्रतिशत तक कटाई पूरी हो चुकी है। जबकि उत्तर प्रदेश में, 84 प्रतिशत पूरा हो चुका है और यह मई 2021 के मध्य तक जारी रहेगा।

नवीनतम आंकड़ों को जारी करते हुए, कृषि मंत्रालय ने कहा, रबी फसलों की कटाई शेड्यूल पर है और किसानों के लाभ के लिए समय पर खरीद सुनिश्चित की जा रही है। वर्तमान महामारी की स्थिति के बीच, किसान और खेतिहर मजदूर पसीना बहा रहे हैं। केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा समय पर किए गए प्रयासों के चलते कटाई की गतिविधियों में कोई व्यवधान नहीं आया। गेहूं के मामले में मंत्रालय ने कहा कि देश में 315.80 लाख हेक्टेयर में बोए गए कुल क्षेत्रफल का लगभग 81.55 प्रतिशत हिस्सा काटा जा चुका है। राजस्थान में गेहूं की कटाई लगभग 99 फीसदी, मध्य प्रदेश में 96 फीसदी, उत्तर प्रदेश में 80 फीसदी, हरियाणा में 65 फीसदी और पंजाब में 60 फीसदी हुई है। हरियाणा, पंजाब और यूपी में कटाई अपने चरम पर है और अप्रैल 2021 के अंत तक पूरा होने की संभावना है। 158.10 लाख हेक्टेयर में बुवाई गई दालों में से चना, मसूर, उड़द, मूंग और क्षेत्र मटर की कटाई पूरी हो गई है। रबी सीजन में 45.32 लाख हेक्टेयर में बोए गए चावल में से अब तक 18.73 लाख हेक्टेयर में कटाई पूरी हो चुकी है। आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु में रबी चावल की कटाई लगभग पूरी हो चुकी है। तिलहनी फसलों में राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, झारखंड, गुजरात, छत्तीसगढ़, ओडिशा और असम में रेपसीड सरसों की कटाई 100 फीसदी पूरी हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here