धर्मेंद्र प्रधान ने तेल एवं गैस इंडस्ट्री के प्रमुखों से युवा पेशेवरों के इनोवेशन का समर्थन करने का आग्रह किया

366

नई दिल्ली: केंद्रीय पेंट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने गत शाम नई दिल्ली में एफआईपीआई (भारतीय पेट्रोलियम उद्योग संघ) के वार्षिक सम्मेलन एवं पुरस्कार समारोह को संबोधित किया। इनोवेशन यानी नवाचार पर बात करते हुए श्री प्रधान ने कहा, ‘तकनीक एवं इनोवेशन आज की जरूरत हैं। मेरा दृढ़ मत है कि युवा इनोवेशन को आगे ले जा सकते हैं। इंडस्ट्री को इनोवेशन को आगे बढ़ाने और नए बिजनेस मॉडल तैयार करने के लिए युवा कर्मचारियों को मदद देने वाला ढांचा तैयार करने पर काम करना चाहिए।’

केंद्रीय पेंट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने गत शाम नई दिल्ली में एफआईपीआई (भारतीय पेट्रोलियम उद्योग संघ) के वार्षिक सम्मेलन एवं पुरस्कार समारोह को संबोधित किया। इनोवेशन यानी नवाचार पर बात करते हुए श्री प्रधान ने कहा, ‘तकनीक एवं इनोवेशन आज की जरूरत हैं। मेरा दृढ़ मत है कि युवा इनोवेशन को आगे ले जा सकते हैं। इंडस्ट्री को इनोवेशन को आगे बढ़ाने और नए बिजनेस मॉडल तैयार करने के लिए युवा कर्मचारियों को मदद देने वाला ढांचा तैयार करने पर काम करना चाहिए।’

भारत की ऊर्जी जरूरतों पर बात करते हुए श्री प्रधान ने कहा, ‘ऊर्जा को लेकर भारत की जरूरतें बढ़ती जा रही हैं। मैं इंडस्ट्री से अपील करता हूं कि वह स्थायी रूप से ऊर्जा वितरण के नए तरीकों पर काम करे।’

सामाजिक बदलाव के लिए ऊर्जा पर बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘ऊर्जा क्षेत्र में लोगों का जीवन सुधारने की संभावना है। हमें ऊर्जा को ज्यादा किफायती और सुलभ बनाने पर काम करना चाहिए। ऊर्जा क्षेत्र को सामाजिक परिवर्तन के उत्प्रेरक के रूप में कार्य करना चाहिए।’

तकनीक की भूमिका पर बात करते हुए श्री प्रधान ने कहा, ‘हमें व्यापार और शासन के नए मॉडल तैयार करने के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाना चाहिए। प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के रूप में हमने डिजिटल गवर्नेंस में दुनिया में सबसे बड़ा मॉडल बनाया है।’

भारतीय पेट्रोलियम उद्योग संघ (एफआईपीआई) हाइड्रोकार्बन क्षेत्र की इकाइयों की एक सर्वोच्च सोसाइटी है। यह सरकार और नियामक प्राधिकारों के साथ एक इंडस्ट्री इंटरफेस के रूप में कार्य करती है। इस कार्यक्रम में तेल एवं गैस इंडस्ट्री के प्रमुखों एंव पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया।

(Source: PIB)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here