गन्ना प्रजाति 0238 रोग की चपेट में

मुजफ्फरनगर: मुजफ्फरनगर के किसानों को गन्ने की बुआई को लेकर भारी झटका लग सकता है। जिले के गन्नों में बिमारी लगने लगी है। जिले के किसान गन्ने की एक किस्म 0238 को लेकर गत कई साल से सकरात्मक रहे हैं और किस्म 0238 का बड़े पैमाने पर उत्पादन कर रहे हैं। लेकिन इस किस्म के बारे में बुरी खबर आई है। अमर उजाला में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक, इसमें कीड़े लगने शुरु हुए हैं। गौरतलब है कि मुजफ्फरनगर की 96 प्रतिशत भूमि पर 0238 किस्म के गन्ने को उगाया जाता है। किसानों का कहना है कि यदि सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया तो उन्हें भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। इस बीच, उत्तर प्रदेश सरकार के गन्ना विभाग ने किसानों को चेताया है कि वे किसी भी प्रजाति का साठ प्रतिशत से अधिक गन्ना न उगायें।

यह भी पढ़े: गन्ना समेत 180 पादप प्रजातियों को कर सकता है ये कीडा बर्बाद

शुगरकेन रिसर्च सेंटर के डायरेक्टर डॉ वीरेश कुमार ने कहा कि किसी भी प्रजाति की औसत आयु 7 से 15 साल तक की होती है। 0238 प्रजाति के जारी हुए भी काफी साल हो चुके हैं। यही कारण है कि पूर्वी उत्तर प्रदेश और मध्य यूपी में इस प्रजाति का गन्ना बीमारी की चपेट में है। केवल सहारनपुर और मेरठ मंडल बचा है, जिसमें इस प्रजाति में अभी बीमारी नहीं आई है।

यह भी पढ़े: गन्ना प्रजाति Co 0238 में रेड-राट रोग के प्रकोप की रोक-थाम हेतु समस्त गन्ना परिक्षेत्रों को एडवाइजरी जारी

आपको बता दे, आने वाले समय में 0238 के विकल्प के रूप में गन्ना वैज्ञानिक 13235 प्रजाति को ला रहे हैं। जिससे गन्ना किसानों को राहत मिल सकती है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here