जिले के 12 चीनी मिलों की पेराई हुई खत्म

801

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

सांगली: चीनी मंडी

सांगली जिले में 16 चीनी मिलों ने २४ मार्च तक 81 लाख 64 हजार 666 टन गन्ने की पेराई हुई, जिसमें ९९ लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन और १२.३६ प्रतिशत रिकवरी हुई है। अब तक जिले की 12 चीनी मिलों की पेराई बंद हो चुकी है। अगले चार दिनों में शेष मिलों का क्रशिंग खत्म होने  की संभावना है।

जिले की चीनी मिलों ने 24 अप्रैल, 2014 को पेराई सत्र के दौरान 71 लाख 61 हजार 359 टन गन्ने की पेराई कर 88 लाख 13 हजार 750 क्विंटल चीनी का उत्पादन किया था। उस समय, औसत रिकवरी 12.31 प्रतिशतथी। चीनी निर्माताओं ने पिछले पांच वर्षों में आधुनिकीकरण लाकर क्रशिंग क्षमता में वृद्धि की है। 24 मार्च, 2019 तक, जिले में चीनी मिलों ने 81 लाख 64 हजार 666 टन गन्ने का क्रशिंग और 99 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया था। गन्ना रिकवरी 12.36 प्रतिशत है।

अभी भी जिले की चार मिलों का क्रशिंग सीजन चल रहा है। गन्ना क्रशिंग का आंकड़ा 83 लाख टन तक जा सकता है और जिले में चीनी का रिकॉर्ड उत्पादन होने की सम्भावना है। चीनी आंकड़ों को ध्यान में रखते हुए, मिलों को चीनी बिक्री की उचित योजना बनाने की आवश्यकता है। अन्यथा, भविष्य में अतिरिक्त चीनी का एक गंभीर मुद्दा पैदा हो सकता है।

…यह मिलें हुई बंद

विश्वासराव नाइक, हुतात्मा, माणगंगा, महांकाली, राजारामबापू – वाटेगांव इकाई, सोनहिरा, क्रांति, यशवंत शुगर, उदगिरी चीनी, सद्गुरु श्री श्री चीनी , मोहनराव शिंदे इन मिलों का क्रशिंग पूरा हो गया है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here