आईसीएआर-शुगरकेन ब्रीडिंग इंस्टिट्यूट के डॉ. बख्शी राम को मिला सर्वश्रेष्ठ कृषि वैज्ञानिक पुरस्कार

220

नई दिल्ली: कोयंबत्तूर स्थित आईसीएआर-शुगरकेन ब्रीडिंग इंस्टिट्यूट के डॉ. बख्शी राम को नई दिल्ली में आयोजित आउटलुक कृषि सम्मेलन के दौरान केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए ‘आउटलुक बेस्ट एग्रीकल्चरल साइंटिस्ट अवार्ड से सम्मानित किया।

डॉ. बख्शी राम ने गन्ने की नई प्रजाति विकसित करने अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त की है। इन्होंने गन्ने की किस्म 0238 विकसित की है, जिसे देश के उत्तरी राज्यों के गन्ना किसानों ने भारी प्रतिसाद दिया है। गन्ना उत्पादन में यह किस्म एक क्रांति है। इस किस्म की फिलहाल पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और बिहार जैसे राज्यों में लगभग 77.2 प्रतिशत गन्ना क्षेत्र में बुआई हो रही है।

उत्तर प्रदेश में Co 0238 का अधिक इस्तेमाल हुआ है। जसिके करण राज्य में अच्छी पैदावार हुई है। अच्छी पैदावार के कारण गन्ना किसानों को पहले के मुकाबले आर्थिक लाभ भी अच्छा हुआ है।

डॉ. राम बख्शी को उनकी शानदार उपलब्धियों के लिए अनेक पुरस्कारों और सम्मानों से सम्मानित किया गया है। फिलहाल, डॉ. बख्शी दक्षिणी राज्यों में गन्ने की पैदावार और गन्ने की किस्मों को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here