सूखे, सफेद ग्रब से भारत के चीनी उत्पादन में होगी 3 मिलियन टन की कमी…

824

देशभर में अनियमित बारिश के कारण फसल पैदावार में लगभग 10 फीसदी की गिरावट आई है…

नई दिल्ली : चीनी मंडी

दुनिया के दूसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक भारत में गन्ना फसल में बढ़ोतरी के बाद भी लगातार शुष्क मौसम और कीट (सफेद ग्रब) के हमले के कारण इस साल चीनी उत्पादन में होगी 3 मिलियन टन की कमी देखि जा सकती हैं। सितंबर और अक्टूबर के दौरान मुख्य बढ़ते क्षेत्रों में किसानों के सर्वेक्षण के मुताबिक 1 अक्टूबर से शुरू होने वाले साल में गन्ने का उत्पादन 28.9 मिलियन मीट्रिक टन हो सकता है। भारतीय चीनी मिल्स एसोसिएशन द्वारा पिछले महीने किए गए सर्वेक्षण में 32 मिलियन टन का अनुमान लगाया है। को-ऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज लिमिटेड के राष्ट्रीय संघ ने 32.4 मिलियन टन उत्पादन का अनुमान लगाया है।

एकड़ में उत्पादन में कुल 7 प्रतिशत की कमी संभव…

एसजीएस के वैश्विक कृषि बाजार अनुसंधान प्रबंधक मार्क ओल्टन ने कहा, गन्ना, सूखे के लिए बहुत संवेदनशील है और महाराष्ट्र जैसे प्रमुख गन्ना उत्पादक राज्य में सफेद ग्रब के हमले से फसल क्षतिग्रस्त हुई है । सफेद ग्रब और सूखे से एकड़ में उत्पादन में कुल 7 प्रतिशत की कमी हो सकती है ।उद्योग निकायों द्वारा अपेक्षा की जाने वाली छोटी फसल भारत से निर्यात को कम कर सकती है, जो पिछले महीने अपने हालिया शिखर से 6 फीसदी गिर गई है। मैरेक्स स्पेक्ट्रॉन के मुताबिक भारत में फसल डाउनग्रेड वैश्विक चीनी बाजार को 2018-19 सीजन के लिए घाटे में डाल देगा। फिर भी, सरकार 2018-19 में मिलों के निर्यात में 5 मिलियन टन निर्यात करने में मदद करने के उपायों की योजना बना रही है।

गन्ना उत्पादन की स्थिती…

एसजीएस ने सितंबर 27 और 20 अक्टूबर के बीच छः राज्यों में 863 किसानों का सर्वेक्षण किया, जिनमें शीर्ष उत्पादक उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र शामिल थे। गन्ना उत्पादन में 3.8 प्रतिशत की गिरावट देखी गई है जो 362.5 मिलियन टन है। सर्वेक्षण के मुताबिक, लगभग 70 फीसदी फसल क्रशिंग की जाएगी, जबकि बाकी का इस्तेमाल पशुधन फ़ीड और गुड़, स्थानीय स्वीटनर के लिए किया जाएगा।

यह है सर्वेक्षण के हाइलाइट्स…

कुल फसल की लगभग 35 प्रतिशत अच्छी स्थिति में है, जो एक साल पहले 52 फीसदी था। लगभग 21 प्रतिशत फसल खराब स्थिति में हैं, 2017 सर्वेक्षण में 3 प्रतिशत से ऊपर है। शेष फसलें सामान्य हैं। उत्तर प्रदेश में गन्ने की पैदावार में 14 फीसदी और महाराष्ट्र में 9.3 फीसदी की कमी आएगी। छोटे उत्पादकों में गिरावट बड़ी होगी, आंध्र प्रदेश में 15.6 फीसदी और तमिलनाडु में 18.2 फीसदी की कमी आई है।

भारत में इस वर्ष मानसून औसत से था नीचे…

एसजीएस ने कहा कि, शीर्ष उत्पादक उत्तर प्रदेश में फसल उत्पादन 8.3 फीसदी और तमिलनाडु में 25.7 फीसदी गिर जाएगा। गुजरात में 11.9 प्रतिशत, कर्नाटक में 8.8 प्रतिशत और महाराष्ट्र में 0.3 प्रतिशत चढ़ जाएगा। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, भारत में इस वर्ष मानसून औसत से नीचे था, जून और सितंबर के बीच 50% औसत 50 सेंटीमीटर (35 इंच) के औसत 91 डिग्री के बीच। एसजीएस के मुताबिक किसानों ने सर्वेक्षण किया कि गन्ना की कीमत 8.5 फीसदी बढ़कर 19 फीसदी हो जाएगी। मिलों संघीय और राज्य सरकारों द्वारा निर्धारित दरों पर गन्ना खरीदते हैं। पिछले साल, एसजीएस ने 2017-18 के लिए 25.886 मिलियन टन भारत के उत्पादन की भविष्यवाणी की थी, जो भारतीय चीनी मिल्स एसोसिएशन द्वारा अनुमानित 32.5 मिलियन टन के अंतिम आंकड़े से कम है।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here