सरकार की इथेनॉल निति : चीनी मिलों को गन्ना बकाया भुगतान में होगी मदद

766

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

नई दिल्ली : चीनी मंडी 

मोदी सरकार ने चीनी उद्योग के वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए बहु-आयामी रणनीति शुरू की है, जो 20,000 करोड़ रुपये से अधिक के गन्ना बकाया के दबाव में है। 15,000 करोड़ रुपये से अधिक के रियायती ऋण की पेशकश के कैबिनेट के फैसले से न केवल उद्योग को बड़े पैमाने पर इथेनॉल उत्पादन में बढ़ोतरी करने में मदद मिलेगी, बल्कि यह बढ़ते गन्ना बकाया राशि को भी चुकाने में मदद करेगा। सरकार बैंकों द्वारा ली जाने वाली ब्याज राशि का 6% या आधी ब्याज दर देगी।

निजी चीनी मिल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा की, वर्तमान में, हमारे राजस्व का 20% इथेनॉल उत्पादन से आता है। यह हमारे राजस्व का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। उन्होंने कहा कि, मांग आपूर्ति से अधिक है और आपूर्ति की मांग बढ़ने का यह चलन कई वर्षों तक रहेगा क्योंकि सरकार ने पेट्रोल में 10% से 20% इथेनॉल सम्मिश्रण बढ़ाने की योजना बनाई है। ब्राजील के बाद भारत दुनिया में गन्ने का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। हालांकि, अधिशेष उत्पादन बाजार में चीनी की कीमतों को गिरा देता है, जिससे उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में राजनीतिक रूप से शक्तिशाली गन्ना किसानों को भुगतान करने के लिए मिलर्स के लिए पर्याप्त कमाई करना मुश्किल हो जाता है।

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) ने सरकार के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि, लगभग 15,000 करोड़ रुपये के अतिरिक्त ऋण से देश में अन्य 300-400 करोड़ लीटर इथेनॉल उत्पादन क्षमता के निर्माण में मदद मिल सकती है। यह चीनी उद्योग को अधिशेष गन्ने को इथेनॉल में परिवर्तित करके अधिशेष चीनी उत्पादन को कम करने में मदद करेगा, जिससे अगले वर्ष से 1.5 से 2 मिलियन टन चीनी उत्पादन में कमी देखी जा सकती है। 380 करोड़ लीटर की वर्तमान इथेनॉल क्षमता को ध्यान में रखते हुए, हम अगले वर्ष में पेट्रोल के साथ 10% सम्मिश्रण करेंगे। इसके बाद वर्ष हमें देश की पेट्रोल खपत का 15% भी प्रतिस्थापित कर सकता है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here