मानसून में ठहराव से उत्तर प्रदेश के कुछ जिले में हुई कम बारिश

47

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के आधे से अधिक जिलों में सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई है, दक्षिण-पश्चिम मानसून में ठहराव के कारण पिछले 20 दिनों में राज्य भर में कम बारिश हुई है। राज्य के 75 जिलों में से अड़तीस जिलों ने मानसून के मौसम में औसतन 28 प्रतिशत कम वर्षा दर्ज की, जबकि केवल 18 जिलों में सामान्य वर्षा दर्ज की गई। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के आंकड़ों के अनुसार, पश्चिमी यूपी के जिलों में पूर्वी यूपी के जिलों की तुलना में कम बारिश हुई। पश्चिमी यूपी में 1 जून से 8 जुलाई के बीच औसत वर्षा 80 मिमी दर्ज की गई, जो सामान्य 123.7 मिमी वर्षा से 35% कम है।

हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक, आंकड़ों के अनुसार सबसे कम वर्षा वाले जिले गौतम बुद्ध नगर (-79%), गाजियाबाद (-84%), इटावा (-72%), ललितपुर (-82%), अलीगढ़ (-52%), औरैया (-49%), बागपत (-64%), बुलंदशहर (-62%), मथुरा (-61%), महोबा (-61%), सहारनपुर (-69%), शामली (-61%) और फर्रुखाबाद ( -74%) रहा है। इनमें से कई जिले धान और गन्ना के प्रमुख उत्पादक हैं, जो राज्य की दो प्रमुख खरीफ फसलें हैं। जानकारों का मानना है कि बारिश की कमी से राज्य में खरीफ फसलों के उत्पादन पर असर पड़ेगा। बारिश की कमी धान किसानों को गन्ना किसानों की तुलना में अधिक प्रभावित करेगी। धान के खेतों में खेती के बाद पहले 50 दिनों में अतिरिक्त पानी की आवश्यकता होती है, लेकिन इस साल मानसून रुकने के कारण धान किसान पानी के लिए नलकूपों पर निर्भर रहने को मजबूर हैं। इससे किसानों की कमाई पर असर पड़ सकता है। हालांकि, राज्य में मॉनसून के फिर से शुरू होने की संभावना है, जिससे किसानों को कुछ राहत मिलेगी। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, इस सप्ताह के अंत तक मानसून पूरे राज्य को कवर कर लेगा। गुरुवार को पूर्वी यूपी के कुछ जिलों में मानसून की बारिश फिर से शुरू हुई। शनिवार तक राज्य के शेष हिस्सों को कवर करने की उम्मीद है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here