नाइजीरिया में चीनी उत्पादन बढ़ाने पर जोर…

239

अबुजा : नेशनल शुगर डेवलपमेंट काउंसिल (NSDC) ने कहा है कि, यदि देश चीनी क्षेत्र में चल रही पिछड़ा एकीकरण योजना (Backward Integration Plan-BIP) में सफल होता है, नाइजीरिया सालाना अफ्रीका के 11 मिलियन मीट्रिक टन चीनी मांग को भी पूरा कर सकता है। NSDC के कार्यकारी सचिव जैक एडेडेजी ने बीआईपी के ऑपरेटरों की बैठक में कहा की, नाइजीरियाई सालाना 1.7 मिलियन मीट्रिक टन चीनी का उपभोग करते हैं और चीनी की मांग को पूरा करने के लिए 250 मीट्रिक हेक्टेयर भूमि पर गन्ने की खेती की जानी चाहिए। नाइजीरिया को प्रमुख चीनी उत्पादक देश बनने की आवश्यकता है। एनएसडीसी उन चुनौतियों का समाधान करने के प्रयास कर रही है जिन्होंने वर्षों से इस क्षेत्र को पीछे धकेल दिया है। हालांकि, उन्होंने कहा कि एनएसडीसी फैक्ट्री और फील्ड ऑपरेशन दोनों के लिए आवश्यक मशीनरी आयात करने के संबंध में उन बाधाओं पर ऑपरेटरों से शिकायतें और रिपोर्ट प्राप्त कर रही है।

वित्त मंत्रालय के कर निति के उप निदेशक बशीर अब्दुल कादिर ने कहा कि, चीनी उद्योग में BIP खिलाड़ियों यदि निर्धारित प्रक्रियाओं का पालन करते हैं, तो उन्हें आयात शुल्क छूट, बंदरगाह शुल्क और मूल्य वर्धित कर से लाभ हो सकता है। मशीनरी के लिए शून्य चीनी आयात शुल्क प्रोत्साहन राष्ट्रीय चीनी मास्टर योजना का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि, मशीनों को आयात करने में बीआईपी ऑपरेटरों को आने वाली चुनौतियों से उद्योग मंत्रालय अवगत था और समस्या को हल करने के लिए NSDC का समर्थन करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here