महाराष्ट्र में गन्ना कटाई के लिए मशीनीकरण पर जोर…

3882

पुणे: गन्ने की कटाई के लिए पर्याप्त श्रमिकों के मौजूदगी पर सस्पेंस बरक़रार है, इसके चलते चीनी मिलों द्वारा कटाई के लिए मशीनीकरण को बढ़ाने के प्रयास किए जा रहें हैं। चीनी मिलों द्वारा हार्वेस्टर की मदद से कटाई के लिए समझौते किए जा रहे हैं। एक हार्वेस्टर की लागत लगभग 1 करोड़ रुपये के ऊपर है और मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में ऐसी 450 मशीनें हैं। सामाजिक न्याय विभाग द्वारा गन्ना श्रमिकों को अतिरिक्त बिमा प्रीमियम राशि प्रदान करने के लिए पहल करने का प्रयास किया जा रहा है। राज्य के कई लाख गन्ना श्रमिकों का Covid स्वास्थ्य बीमा कराना है, तो प्रति मजदूर पर 700 से 900 रुपये का खर्च हो सकता है। राज्य साखर संघ द्वारा एक प्रस्ताव भेजा गया है कि, बीमा प्रीमियम की कुछ राशि राज्य सरकार के सामाजिक न्याय विभाग द्वारा मिले। एक तरफ, श्रमिकों को खुश करने और दूसरी तरफ मशीनीकरण को बढ़ावा देने का प्रयास जारी है।

मिलों का कहना है की हर साल गन्ना कटाई मजदूरों की संख्या घटती जा रही है और भविष्य में मजदूरों के कमी की समस्या के चलते केंद्र और राज्य सरकार द्वारा गन्ना कटाई मशीनों के लिए अनुदान प्रदान करने की आवश्यकता है। राज्य में कुछ मिलों द्वारा कटाई के लिए मशीनरी का उपयोग करने के लिए समझौते किए जा रहे हैं, क्योंकि कुछ मिलों के कार्य क्षेत्र में बंपर गन्ना उत्पादन होने की संभावना है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here