इथेनॉल खरीद मूल्य वृद्धि…चीनी मिलों के लिए सकारात्मक, अल्कोहोल उद्योग के लिए नकारात्मक

975

नई दिल्ली : चीनी मंडी

इथेनॉल उत्पादन में वृद्धि और कीमतों में बढ़ोतरी के कारण एक तरफ चीनी उद्योग में ख़ुशी की लहर दौड़ रही है, तभी दूसरी तरफ अल्कोहोल उद्योग खुद को संकट में देख रहा है । इथेनॉल कीमतों में वृद्धि अल्कोहोल विनिर्माण कंपनियों के सकल मार्जिन को प्रभावित कर सकती है क्योंकि अल्कोहोल निर्माण में जरूरती कच्चे माल में से इथेनॉल एक प्रमुख घटक है, जिसका उत्पादन के लिए उपयोग किया जाता है।इससे पहले, सरकार ने चीनी के रस से उत्पादित इथेनॉल की कीमत 47.5 रुपये प्रति लीटर तय की थी, अब इसमें अच्छी खासी बढ़ोतरी की है । इथेनॉल उत्पादन में वृद्धि के कारण आने वाले 2018-19 के गन्ना क्रशिंग सीजन में 0.7-0.8 मिलियन टन कम चीनी उत्पादन का कारण बन जाएगी ।

इथेनॉल उत्पादन अगले तीन वर्षों में 10-15 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा

चीनी उद्योग से अब यह उम्मीद की जा रही है की, मिलें तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) को लगभग 200-225 करोड़ लीटर इथेनॉल की आपूर्ति करेंगे। इनमें से लगभग 40-50 करोड़ लीटर बी-भारी गुड़ (मोलासिस) से उत्पादन किया जाएगा, जबकि शेष सी-भारी गुड़ से उत्पादित होगा। सरकार ने जून 2018 में बी-गुड़ से उत्पादित इथेनॉल की कीमत प्रति लिटर 47.4 9 रुपये तय की थी। चीनी उद्योग उम्मीद कर रहा है कि, इथेनॉल उत्पादन अगले तीन वर्षों में 4-5 प्रतिशत के मौजूदा स्तर से 10-15 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा। इसके लिए चीनी कंपनियों को इथेनॉल उत्पादन के लिएअपने बुनियादी ढांचे को बढ़ाना होगा।

इथेनॉल उत्पादन एक उच्च मार्जिन व्यवसाय

चीनी कंपनियों के लिए यह सकारात्मक संकेत है क्योंकि चीनी कंपनियों के लिए इथेनॉल एक उच्च मार्जिन व्यवसाय है। कंपनियां वर्तमान में इथेनॉल मिश्रण पर लगभग 25-50 प्रतिशत मार्जिन बनाती हैं। श्री रेणुका चीनी के कार्यकारी अध्यक्ष अतुल चतुर्वेदी ने कहा कि, सरकारद्वारा 25 प्रतिशत तक इथेनॉल खरीद की कीमत बढ़ाने कदम अच्छा है। चतुर्वेदी ने कहा, इथेनॉल मार्ग पर जाना समझ में आता है कि, आंतरराष्ट्रीय बाजार कच्चे तेल की कीमतें बढ़ रही हैं और उससे देश को जादा पैसा चुकाना पण रहा है ।

चीनी अधिशेष को कम करने में मदद

त्रिवेणी इंजीनियरिंग और इंडस्ट्रीज के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक तरुण सावनी ने कहा कि, यह सरकार द्वारा उठाया गया सकारात्मक कदम है, खासकर इथेनॉल उत्पादन में वृद्धि से चीनी अधिशेष को कम करने में मदद मिलेगी । इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) यह भी उम्मीद करता है की, इथेनॉल मिश्रण उत्पादन अगले तीन वर्षों में 4-5 प्रतिशत के मौजूदा स्तर से लगभग 10-15 प्रतिशत होगा।

क्रेडिट सुइसने यूनाइटेड स्पिरिट्स की रेटिंग घटाई

विदेशी ब्रोकरेज हाउस क्रेडिट सुइस ने अपनी लक्षित कीमत में कटौती की है और यूनाइटेड स्प्राइट्स पर अपनी रेटिंग घटा दी है। उन्होंने कमाई 9-15 प्रतिशत और कम लक्ष्य मूल्य 610 रुपये घटा दी और कंपनी को तटस्थ करने के लिए डाउनग्रेड किया। ब्रोकरेज ने कहा कि, यूनाइटेड स्पिरिट्स को अपनी मुख्य कच्ची सामग्री की औसत कीमतों में वृद्धि देखने की संभावना है।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here