चीनी मिलों के सामने अब इथेनॉल आपूर्ति का संकट

252

हरिद्वार, नई दिल्ली 10 अप्रैल: कोरोना वायरस के कारण चल रहे लॉकडाउन के चलते देश की जनता घरों में कैद है तो सडकें सुनसान नजर आ रही है। सडकों पर पसरे सन्नाटे से वाहनों की आवाजाही भी प्रभावित हुई है। आवागमन रुकने से देशभर में पैट्रोल पंपों पर काफी कम मात्रा में इंधन की बिक्री हो रही है। इस बिक्री की कमी से पैट्रोलियम कम्पनियों को जहां नुक़सान हो रहा है वहीं इथेनॉल बनाने वाली चीनी मिलों के सामने इथेनॉल आपूर्ति का संकट बढ़ रहा है। गत वर्ष केन्द्र सरकार ने घाटे में चल रही चीनी मिलों को आर्थिक उपार्जन के लिए आय के अतिरिक्त श्रोत तैयार करने के संदर्भ में चीनी मिलों में इथेनॉल उत्पादन को मंजूरी दी थी। चीनी मिलों को इथेनॉल से अतिरिक्त आमदनी हो और मिलों से पैट्रोलियम कम्पनियां इथेनॉल खरीदें इसके लिए पैट्रोल में 10 फीसदी इथेनॉल ब्लेंडिंग का लक्ष्य रखा गया। सरकार की इस पहल से प्रेरित होकर यूपी सहित देश के कई राज्यों में चीनी मिलों ने अपने यहां इथेनॉल प्लांट लगाकर बड़े स्तर पर काम शुरु कर दिया था लेकिन इस लॉकडाउन में अब उनके यहां इथेनॉल का ज़रूरत ये ज्यादा स्टॉक हो गया है लेकिन पैट्रोलियम कम्पनियां इथेनॉल ले नहीं रही है इसलिए इथेनॉल बनाने वाले चीनी मिल संचालकों के सामने संकट खडा हो रहा है।

इस संर्दभ में हरिद्वार चीनी मिल मालिक सुशील राठी ने कहा कि अभी हम लोगों के पास जरूरत से ज़्यादा इथेनॉल का भंडार पडा है लेकिन पैट्रोलियम कम्पनियाँ लेने को तैयार नहीं है। इस कारण हमारे पास उत्पादन की तुलना में सप्लाई नहीं हो रही है। सुशील राठी ने कहा कि हमसे पहले की तुलना में पैट्रोलियम कम्पनियों ने इथेनॉल की खरीद काफी कम कर दी है। मार्केटिंग कम्पनियों द्वारा खरीद में कटोती करने से हमारे पास उत्पादन के बावजूद इथेनॉल की मांग न होने के कारण इसके भंडारण की चुनौती सामने आ रही है। राठी ने कहा कि हमने सरकार की पहल से प्रेरित होकर इथेनॉल प्लांट लगाने में काफी पैसा खर्च किया है। अब जब इथेनॉल नहीं बिक रहा तो हमारे पास आर्थिक संकट पैदा हो रहा है। सरकार से मांग है कि इथेनॉल की बिक्री करवाने में हमारी मदद करें और पैट्रोलियम कम्पनियों को इथेनॉल खरीदने के लिए निर्देश दें। राठी ने कहा कि लॉकडाउन से एक ओर जहां चीनी उत्पादन घट रहा है वहीं आय के अतिरिक्त साधन रुकने से हम जैसे इथेनॉल निर्माण करने वाले उद्यमियों के सामने वित्तीय संकट खड़ा हो रहा है।

पैट्रोलियम कम्पनियों द्वारा इथेनॉल की मांग कम होने के मसले पर बात करते हुए इडियन ऑयल कोर्पोरेशन के अधिकारी एसएन यादव ने कहा कि अभी लॉकडाउन की वजह से देशभर में वाहनों की आवाजाही रुकने से डीजल और पैट्रोल की आपूर्ति में भारी कमी आई है। इसके चलते पैट्रोल की खपत घटी है । ऐसे में इथेनॉल की मांग में भी स्वाभाविक रुप से कमी होना लाजमी है। जैसे ही लॉकडाउन खुलेगा धीरे धीरे फिर से पैट्रोल की खपत बढ़ेगी तो इथेनॉल की मांग में भी इजाफा हो जाएगा।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here