गन्ने की फसल के लिए अत्यधिक पानी का उपयोग संकट पैदा कर रहा है: जल विशेषज्ञ

4255

औरंगाबाद: जल विशेषज्ञ राजेंद्र सिंह ने कहा कि, गन्ने की खेती के लिए पानी का अत्यधिक उपयोग महाराष्ट्र को संकट की ओर ले जा रहा है। उन्होंने गुरुवार को “जलवायु परिवर्तन और जल प्रबंधन” पर एक वेबिनार के दौरान यह बयान दिया। यह वेबिनार डॉ बाबासाहेब अंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय के बालासाहेब पवार अध्ययन केंद्र द्वारा आयोजित किया गया था।

उन्होंने कहा, एक समय महाराष्ट्र अपनी मजबूत ग्रामीण अर्थव्यवस्था और खेती के लिए जाना जाता था। लेकिन पिछले कुछ वर्षों में, गन्ने की खेती के लिए पानी के अत्यधिक उपयोग से राज्य में पर्यावरण असंतुलन पैदा हो गया है। भविष्य में, महाराष्ट्र को इसके कारण जल संकट का सामना करना पड़ सकता है। सिंह, जिन्हें ‘भारत के वाटरमैन’ के रूप में जाना जाता है, उन्होंने कहा, महाराष्ट्र में पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध है, लेकिन इसके उपयोग के बारे में योजना अनुचित है।

सिंह ने कहा, सिंचित भूमि में गन्ने की अत्यधिक खेती होती है, जबकि वर्षा पर निर्भर खेती का क्षेत्र अधिक हैं और वहां के किसान आत्महत्या कर रहे हैं। इसलिए वर्षा की हर बूंद को उचित योजना के साथ संग्रहित और उपयोग करने की आवश्यकता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here