इथेनॉल इकाई विस्तार में आ रही है अड़चन

245

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मैसूरु: चीनीमंडी

नंजनगुड तालुक में एक इथेनॉल इकाई के विस्तार के खतरों पर प्रकाश डालते हुए, किसान संगठन और हाथुरु गांव के निवासियों ने बन्नारी अम्मन चीनी मिल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर्नाटक राज्य रईथा संघ के मैसूरु जिला अध्यक्ष टीआर विद्यासागर ने किया।

विद्यासागर ने कहा, 2004 में शुरू की गई, इथेनॉल इकाई को 60 किलो लीटर प्रति दिन (klpd) की क्षमता से संचालित करने की अनुमति दी गई थी, लेकिन हाल ही में इसकी परिचालन क्षमताओं को बढ़ाकर 150 किलो लीटर प्रति दिन (klpd) करने की अनुमति दी गई है। इथेनॉल इकाई विस्तार से आसपास के 10 गांवों के प्राकृतिक संसाधन प्रदूषण से पीड़ित होंगे। उन्होंने मिल से उठने वाले धुएं और निकलने वाले कचरे को पर्यावरण पर इसके संभावित प्रभावों की ओर इशारा किया। दूषित पानी की कृषि के लिए कोई उपयोगिता नहीं होगी।

किसान नेता लक्ष्मीनारायण गौड़ा ने सरकार से क्षमता बढ़ाने के लिए मिल को दी गई अनुमति वापस लेने को कहा। उनहोंने दावा किया की, यह उन ग्रामीणों के जीवन को बाधित करेगा जो पिछले कई सालों से यहां रह रहे हैं। हम तब तक अपना विरोध जारी रखेंगे जब तक कि चीनी मिल विस्तार की अपनी योजना नहीं छोड़ती।

गन्ना किसानों द्वारा 2 जुलाई को विरोध प्रदर्शन

राज्य सरकार के विरोध में अखिल कर्नाटक गन्ना किसान संघ के सदस्यों ने 2 जुलाई को एक विरोध प्रदर्शन करने का फैसला किया है। किसान नेता हलीमर्ले सुनयगड्डा ने कहा कि, पीड़ित किसान मैसूर पैलेस के उत्तरी गेट से उपायुक्त कार्यालय तक रैली निकालेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here