FY22 की दूसरी तिमाही में 7 से 8 फीसदी की वास्तविक जीडीपी वृद्धि की उम्मीद: मोतीलाल ओसवाल

35

 

मुंबई: मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज ने सोमवार को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में सालाना आधार पर 7 से 8 प्रतिशत की वास्तविक सकल मूल्य वर्धित (जीवीए) वृद्धि का अनुमान लगाया है। उन्होंने कहा कि, जुलाई में आर्थिक गतिविधि सूचकांक (ईएआई) -जीवीए वृद्धि में कुछ नरमी का रुझान दिखाई दिया हैं, जिसका मुख्य कारण कमजोर राजकोषीय खर्च है। दूसरी ओर, निजी खर्च (खपत और निवेश) में वृद्धि हुई है।

मोतीलाल ओसवाल ने कहा कि, हालांकि अंतर्निहित अंतरों के कारण इसके ईएआई और आधिकारिक जीडीपी/जीवीए के बीच कोई एक-से-एक संबंध नहीं है, समग्र सूचकांक आधिकारिक वास्तविक जीडीपी (पूर्व-विसंगतियों) और वास्तविक जीवीए अनुमानों के साथ तालमेल बिठाते हैं।तदनुसार, वित्त वर्ष 22 पहली तिमाही में सालाना आधार पर 20.1 फीसदी की वृद्धि के मुकाबले हम वित्त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही में सालाना आधार पर 7 से 8 फीसदी की वास्तविक जीवीए वृद्धि की उम्मीद करते हैं।

जुलाई में निजी खपत तीन महीने की उच्चतम गति से बढ़ी। निवेश वृद्धि में नरमी आई जबकि ईएआई-जीवीए 7.7 प्रतिशत की धीमी गति से बढ़ी। कोविड की तीसरी लहर की आशंका अगस्त में भी आर्थिक विकास को रोक रही है।कुल खपत 5.1 फीसदी बढ़ी, जो जून में 2.7 फीसदी और पिछले साल जुलाई में माइनस 12.1 फीसदी थी। खपत के भीतर, निजी खपत तीन महीने के उच्च स्तर 6.9 प्रतिशत पर बढ़ी, हालांकि सरकारी खपत जुलाई में 31 प्रतिशत गिर गई।

आर्थिक विकास में प्रगति को ट्रैक करने के लिए मासिक आधार पर विश्लेषण किए गए अधिकांश संकेतक अगस्त के लिए मिश्रित तस्वीर पेश करते हैं।जबकि ई-वे पंजीकरण, टोल संग्रह, गतिशीलता सूचकांक और बिजली उत्पादन में तेज दर से वृद्धि हुई है, ऑटो पंजीकरण और विनिर्माण पीएमआई हाल ही में समाप्त महीने में कमजोर हुए हैं। संभावित तीसरी लहर की आशंका आर्थिक गतिविधि को प्रतिबंधित कर रही है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here