चीनी मिल बंद होने की सुगबगाहट से किसान बेचैन

411

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

कुशीनगर 23 अप्रैल (UNI) उत्तर प्रदेश में कुशीनगर जिले की चीनी मिलो में पेराई सत्र समाप्त होने की सुगबुगाहट ने किसानों की बेचैनी बढा दी है।

जिलाधिकारी ने दो रोज पहले चीनी मिल ढाढ़ा और त्रिवेणी शुगर वर्क रामकोला के चीनी मिलों के प्रबंधकों के साथ बैठक करके पेराई बंद ना करने पर हिदायत दी थी। जिले में किसानों का गन्ना की पेराई करने वाली चीनी मिलें अपना पेराई सत्रों को बंद करना चाहती हैं। इसके लिए ढाढ़ा और रामकोला की चीनी मिलों ने गन्ना समितियों को नोटिस भेज दी है।

उन्होने बताया कि इसकी भनक मिलते ही किसानों में बेचैनी बढ़ गई है। इस समय गेहूं की कटाई शुरू होने के कारण गन्ना की जिला करने वाले मजदूर नहीं मिल पा रहे हैं। इसका लाभ चीनी मिल लेना चाहता है। इस चोरी छिपे नोटिस गन्ना समितियो को दिया है। उधर बीते कल हुए जिलाधिकारी डॉ0 अनिल कुमार सिंह की अध्यक्षता में जिले के समस्त चीनी मिलों के प्रबंधकों के साथ एक आवश्यक बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न की गई।

जिलाधिकारी डॉ0 सिंह ने इंडेंट, भुगतान और पेराई क्षमता तथा सत्रावसान आदि की समीक्षा की गई। जिलाधिकारी ने सभी को कड़े निर्देश दिए कि बिना गन्ना समाप्त किये व बिना अनुमति लिये कोई भी क्रय केंद्र बंद नही होना चाहिये। उन्होंने सभी को पूर्ण क्षमता से सभी चीनी मिलों को चलाने तथा इंडेंट जारी करने का भी निर्देश दिया।

जिलाधिकारी ने सभी चीनी मिलों को शीघ्र गन्ना मूल्य भुगतान करने हेतु निर्देशित किया और साथ ही आगाह भी किया कि भुगतान में देरी कतई बर्दाश्त नही की जाएगी।

इस संबंध में जिला गन्ना अधिकारी का कहना है कि ऐसी कोई नोटिस चीनी मिलों ने नहीं भेजा है। सपलाई टिकट की समस्या है। अभी क्षेत्र में बहुत गन्ना दिखलाई पड़ रहा है। बिना पेराई किये चीनी मिलों को बंद करने की अनुमति नहीं दी जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here