ओडिशा में बंद पड़ी चीनी मिल को फिर से चालू करने के लिए किया गया आंदोलन

224

भुवनेश्वर: नयागढ़ शुगर मिल क्रियानुष्ठान कमेटी के नेतृत्व में सैकड़ों किसानों और श्रमिकों ने मिल शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक द्वारा तत्काल हस्तक्षेप की मांग को लेकर सोमवार विरोध प्रदर्शन किया और 2015 से बंद पड़ी नयागढ़ शुगर कॉम्प्लेक्स लिमिटेड (NSCL/ एनएससीएल) को फिर से शुरू करने की मांग की।

आंदोलनकारियों ने जब मुख्यमंत्री निवास की ओर मार्च करने की कोशिश की, तब उन्हें कमिश्नरेट पुलिस ने हिरासत में लिया। 30 जनवरी को नयागढ़ चीनी मिल से शुरू हुई चार दिवसीय पदयात्रा सोमवार को राज्य की राजधानी पहुंचे प्रदर्शनकारी अपनी मांग को लेकर महात्मा गांधी मार्ग पर एकत्रित हुए। बाद में, खंडापाड़ा के पूर्व विधायक सिद्धार्थ सेखर सिंह के नेतृत्व में पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल इस संबंध में एक ज्ञापन सौंपने के लिए मुख्यमंत्री शिकायत निवारण प्रकोष्ठ पहुंचे। हालांकि, प्रतिनिधिमंडल ने यह कहते हुए जगह से बाहर निकल गए कि उन्हें कार्यालय में घंटों इंतजार करना पड़ा और किसी से मिलने की अनुमति नहीं थी। जिसके बाद, प्रतिनिधिमंडल और किसानों ने मुख्यमंत्री आवास की ओर मार्च करना शुरू कर दिया। हालांकि, पुलिस ने उन्हें प्रतिबंधात्मक हिरासत में ले लिया।

विरोध के दौरान, सदस्यों ने मंत्री परिषद से अरुण साहू को निष्कासित करने की भी मांग की। समिति के सदस्य शिवराम मिश्रा ने कहा, “नयागढ़ विधानसभा क्षेत्र से जनप्रतिनिधि होने के बावजूद, कृषि मंत्री मिल को फिर से शुरू करने के लिए कोई ठोस उपाय करने में विफल रहे हैं, जिस पर हजारों किसान और कर्मचारी अपनी आजीविका के लिए निर्भर है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि, ‘एनएससीएल’ के अध्यक्ष त्रिलोक्य मिश्रा 2004 से मिल चला रहे थे। हालांकि, त्रिलोक्य मिश्रा ने 2015 में मिल को बंद कर दिया, जिसमें हजारों किसानों और श्रमिकों की आजीविका दांव पर थी। शिवराम ने कहा कि, आठ जिलों में 12,000 से अधिक किसान और मिल में 600 कर्मचारी बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं, और मिल के पुनरुद्धार के लिए राज्य सरकार से तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की गई है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here