पंजाब में विरोध प्रदर्शन न करें किसान: मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अपील

108

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को किसान संघठनों के प्रतिनिधियों से अपील की कि, वे केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ राज्य भर में विरोध प्रदर्शन न करें क्योंकि राज्य सरकार पहले ही इस मुद्दे पर उनके साथ एकजुटता व्यक्त कर चुकी हैं। चब्बेवाल विधानसभा क्षेत्र के मुखलियाना गांव में 13.44 करोड़ रुपये की लागत से सरकारी कॉलेज की आधारशिला रखने के बाद अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि, राज्य की जनता अपने जायज मुद्दों के पक्ष में चट्टान की तरह खड़ी है। अमरिंदर सिंह ने कहा कि किसानों द्वारा पंजाब में 113 स्थानों पर चल रहे ये विरोध राज्य के हित में बिल्कुल भी नहीं है। इस विरोध से राज्य के आर्थिक विकास को काफी प्रभावित किया है।

उन्होंने उम्मीद जताई कि, आंदोलन पर किसानों द्वारा उनके अनुरोध को स्वीकार किया जाएगा। हालांकि, उन्होंने कहा कि चूंकि केंद्रीय कृषि कानूनों को पहले ही राज्य विधानसभा द्वारा खारिज कर दिया गया है और राज्य के अपने कृषि कानूनों द्वारा प्रतिस्थापित किया गया है, जिन्हें राज्यपाल की सहमति के लिए भेजा गया था, लेकिन इन्हें अभी तक राष्ट्रपति को नहीं भेजा गया है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार की ‘उदासीनता’ के कारण किसानों की जायज मांगों को पूरा करने में अत्यधिक देरी पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य में विरोध प्रदर्शन करने के बजाय, उन्हें इन किसान विरोधी कानूनों को रद्द करने के लिए केंद्र सरकार पर दबाव बनाना चाहिए।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here