‘चालीसगांव पैटर्न’ : सिल्वर स्क्रीन पर दिखेगी शक्कर की मीठी कहानी

343

मुंबई: चीनी मंडी

महाराष्ट्र में सहकारिता उद्योग की एक महान परंपरा है। स्वतंत्रता के बाद की अवधि के दौरान, राज्य के विभिन्न हिस्सों में कई सहकारी परियोजनाएं खड़ी हुई।उनमें से कुछ काफ़ी सफल रहे और कुछ को ताला लगा। जिस जिले की सहकारिता योजनाओं का ताला लगा वहाँ के युवाओं के पास करने के लिए कोई काम नहीं बचा, बेरोजगारी बढ़ गई इसलिए उन्हें अपने घरों और गांवों को छोड़कर शहर का रुख करना पड़ा। बड़े पैमाने पर युवा मुंबई, पुणे शहर की ओर रोजगार तलाश में आ गये। खान्देश में चालीसगांव की ‘बेलगंगा’ चीनी मिल इसका सही उदाहरण है। एक बार, बेलगंगा परियोजना, जिसने बड़ी संख्या में रोजगार प्रदान किया, जिसने गन्ने की नकदी फसल से किसानों को आय प्रदान की, और ऐसा लग रहा था तालुका का विकास होने लगा है। लेकिन कुछ दिनों में मिल को ताला लग गया, जिससे यहाँ के युवा रातोरात बेरोजगार हुए और चालीसगांव तालुका का विकास पीछें छुट गया।

एक युवक ने बेलगंगा मिल को चलाने का सपना देखा था जो पिछले पंद्रह वर्षों से बंद था और फिर से लोगों को मिल शुरू करने का सपना दिखाया। बेशक, यात्रा इतनी आसान नहीं थी, जितनी लगती है। पेशे से इंजीनियर चित्रसेन पाटील ने जनभागीदारी से 70 करोड़ रुपये इकट्ठा किए, तालुका के किसानों, श्रमिकों और व्यापारियों को एकत्रित किया और पिछले साल ‘बेलगंगा’ चीनी मिल को फिर से शुरू किया। गन्ना खेती के विकल्प, युवाओं के लिए रोजगार के अवसर और व्यवसाय के लिए आवश्यक पूंजी जैसे कई वादों पर ‘बेलगंगा’ चीनी मिल की सफल यात्रा शुरू हो गई है।

बेलगंगा चीनी मिल के पुनरुद्धार की कहानी, वास्तव में किसी भी निर्देशक को लुभाने लायक है। निर्देशक दीपक पाटिल ने कहा कि, किसान, युवा, सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिक नेता इस सफलता की कहानी से प्रेरित होंगे और उन्हें यकीन है कि, वे अपने क्षेत्र के विकास के लिए इस ‘चालीसगांव पैटर्न’ को जरुर अपनाएंगे।

चित्रसेन पाटिल, जिनकी संघर्षपूर्ण यात्रा पर फिल्म आधारित है, उन्होंने कहा, “तीन या चार महीने पहले, दीपक पाटिल इस विषय को उनके पास लाए थे। स्थानीय अखबारों और अन्य सोशल मीडिया से, वह बेलगंगा मिल के बारे में पढ़ रहे थे। उन्हें अधिक जानकारी की आवश्यकता थी। इसलिए जब वे चालीसगाँव आए थे, तो उन्हें हमारी यात्रा के बारे में बताया गया। उसके बाद उन्होंने कहा कि, वह इस पर एक फिल्म बनाएंगे।

उन्होंने आगे कहा “वास्तव में, हम किसी प्रचार के लिए काम नहीं कर रहे हैं, इसका उद्देश्य हमारे तालुकों के युवाओं और किसानों को लाभ पहुंचाना है। यही कारण है कि इन लोगों ने बेलगंगा चीनी मिल को पुनर्जीवित करने के लिए एक आंदोलन शुरू किया। अब निर्देशक इसमें एक कहानी देखते हैं और यह सुनकर निश्चित रूप से संतोष होता है कि वे एक फिल्म करना चाहते हैं।”

फिल्म का निर्माण मुंबई में ओन्जल आर्ट्स प्रोडक्शन द्वारा किया जा रहा है और फिल्म का पोस्टर जल्द ही लॉन्च किया जाएगा। फिल्म की निर्माता देवीता पाटिल ने कहा कि, पोस्टर लॉन्च के समय अधिक जानकारी उपलब्ध होगी।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here