ई गन्ना प्रणाली लागू होने के बाद किसानों के पंजीकरण में पाई गई खामियां

1186

कासगंज: किसानों के पंजीकरण के लिए सरकार ने ई गन्ना प्रणाली शुरु की है। इस प्रणाली में अनेक खामियां बाहर आई हैं। अब तक सैकड़ो किसानों ने गन्ना विभाग में आपत्तियां दर्ज करा दी हैं। गन्ना विभाग के अधिकारी इसे तुरंत हल करने में जुट गए हैं।

नए पेराई सत्र के लिए गन्ने की खरीद जल्द शुरु होने वाली है। किसानों का पंजीकरण कर कैलेंडर आ चुका है। हजारों किसानों के इसमें नाम हैं। सरकार ने ई गन्ना प्रणाली लागू करके किसानों से अपने ऑनलाइन दावों के लिए आवेदन और आपत्तियां मंगाई। चार सौ से अधिक किसानों ने ई गन्ना प्रणाली के खिलाफ शिकायत की। उनका कहना था कि इन आपत्तियों में किसी की भूमि का नंबर गलत था तो किसी किसान का बैंक खाता नंबर गलत था। गन्ना विभाग ने ऐसे किसानों से आवेदन और शपथ पत्र लिया और उनके आधार पर वे गलतियों को सुधारने में लग गये।

कासगंज जिले के गन्ना अधिकारी ओम प्रकाश सिंह ने कहा जिन गन्ना किसानों ने अपनी शिकायत दी है उनकी शिकायत को दूर किया जाएगा और न्यौली चीनी मिल में उनके गन्ने की खरीदारी की जाएगी। इसबीच, गन्ना विभाग अगले महीने से न्यौली चीनी मिल चलाने की तैयारी कर रहा है। इस मिल में मरम्मत का काम 80 प्रतिशत पूरा हो चुका है। विभाग को इस मिल में जल्द ही पेराई शुरु होने की उम्मीद है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here