16 साल में पहली बार भारत दुनिया का सबसे बड़ा चीनी उत्पादक बनने के लिए तैयार…

नई दिल्‍ली : चीनी मंंडी

ब्राजील, पारंपरिक रूप से दुनिया का शीर्ष चीनी उत्पादक, 16 साल में पहली बार भारत को ताज को सौंपने के लिए तैयार है। यूएसडीए इकाई ने कहा कि, चीन और यूरोपीय संघ में भारत की तरफ से चीनी की कम आपूर्ति के कारण देश के भीतर चीनी का स्टॉक बढ़ने का अनुमान है।

कृषि विभाग की विदेश कृषि सेवा विभाग ने एक रिपोर्ट में को कहा है कि, इस मौसम में एशियाई देश में उत्पादन 5.2 प्रतिशत बढ़कर 35.9 मिलियन मीट्रिक टन हो सकता है, जो कि कृषि में बढ़ोतरी और उपज में सुधार के कारण है। प्रतिकूल मौसम की वजह से ब्राजील का उत्पादन 21 प्रतिशत घटकर 30.6 मिलियन टन हो सकता है और अधिक गन्ना इथेनॉल उत्पन्न करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

ब्राजील, थाईलैंड और यूरोपीय संघ के दृष्टिकोणों के बाद वैश्विक उत्पादन में 188.3 मिलियन टन के अनुमान के मुकाबले 4.5 प्रतिशत गिरकर 185.9 मिलियन टन होने का अनुमान है। थाईलैंड के बाद ब्राजील शीर्ष निर्यातक बने रहने की उम्मीद है। विपणन सत्र अप्रैल से मार्च तक दक्षिण अमेरिकी राष्ट्र और अक्टूबर से सितंबर तक भारत में चलता है। अधिकांश देश मई से अप्रैल तक चलते हैं। बम्पर फसलों के बीच न्यूयॉर्क में कच्चे-चीनी वायदा इस वर्ष 18 प्रतिशत गिर गया है। 2017 में, कीमत 22 प्रतिशत गिर गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here