महाराष्ट्र से लेकर गोवा और तेलंगाना तक, भारी बारिश और बाढ़ का कहर, केरल में अलर्ट

82

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में गुरुवार को पांच दिनों में दूसरी बार मूसलाधार बारिश के कारण कई लोगों की मौत हो गई। रायगढ़ में गुरुवार देर रात चार भूस्खलन हुए, जिसमें कम से कम पांच की मौत हो गई। इस बीच, भारी बारिश के कारण कोल्हापुर जिले के 47 गांव पानी में डूब गए और 965 परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया, जबकि पंचगंगा नदी खतरे के निशान के करीब पहुंच गई।

ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी, और सिंधुदुर्ग के तटीय जिलों और सतारा और कोल्हापुर के पश्चिमी जिलों में भारी बारिश हुई। पुणे, नासिक, औरंगाबाद, परभणी और सोलापुर में भी मूसलाधार बारिश हुईै। राज्य ने एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और भारतीय तटरक्षक नौकाओं और हेलीकॉप्टरों को तैनात किया, जबकि भारतीय नौसेना की टीमों को स्टैंडबाय पर रखा गया है। भिवंडी, बदलापुर, उल्हासनगर, कल्याण, डोंबिवली, चिपलून, खेड़, सावंतवाड़ी, मनगाँव, मंडनगड, कुडाल, महाड और अन्य जैसे कई शहर और शहर तीन से छह फीट पानी में डूब गए है।

पड़ोसी गोवा में, उत्तर में सत्तारी और बिचोलिम तहसील और दक्षिण में धारबंदोरा सहित राज्य के कई हिस्से बाढ़ जैसी स्थिति से जूझ रहे हैं, जहां भारी बारिश के बाद कुछ नदियों का जल स्तर बढ़ने से बड़ी संख्या में घर जलमग्न हो गए हैं। तेलंगाना में, कम से कम 16 जिलों में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसी स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने अधिकारियों को हाई अलर्ट पर रहने और मिनट दर मिनट स्थिति पर नजर रखने के साथ ही यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि, निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े।

मौसम विभाग ने अगले दो दिनों तक भारी बारिश की भविष्यवाणी करते हुए सभी विभागों को निवारक उपाय करने का निर्देश दिया। केरल और कर्नाटक में भी भारी बारिश की सूचना दी गई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने केरल के एर्नाकुलम, इडुक्की, कोझीकोड और वायनाड जिलों के लिए शुक्रवार को बहुत भारी बारिश की भविष्यवाणी करते हुए, ऑरेंज अलर्ट जारी किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here