घाना चीनी उद्योग को पुनर्जीवित करने का प्रयास…

321

अक्रा: घाना में चीनी उद्योग को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से कृषि, वित्त और व्यापार, और एक निजी क्षेत्र के संघ के माध्यम से घाना सरकार के बीच चर्चा शुरू हुई है। घाना में उत्पादित चीनी के लिए घाना का औद्योगिक क्षेत्र और पश्चिम अफ्रीकी उप-क्षेत्र में पर्याप्त बाजार है। वर्तमान में, घाना में चीनी का उत्पादन नगण्य है, हालांकि यह हमेशा से ही ऐसा नहीं है। 1965 में, एक दिन में 2000 टन गन्ने की पेराई करने की क्षमता वाले आसुतसारे चीनी मिल की स्थापना की गई थी। 1965 में कोमेंडा में दूसरी मिल स्थापित की गई थी, जिसमें प्रति दिन 1000 टन की पेराई की जाती थी। हालांकि, 1981 में दोनों मिलों को गन्ने की कमी सहित खराब प्रबंधन के कारण बंद कर दिया गया था।

चूंकि घाना और उप-क्षेत्र में चीनी की खपत बढ़ती आबादी के कारण बढ़ रही है, और भोजन, और खाद्य उत्पादों में चीनी का उपयोग बढ़ रहा है। अकेले घाना में चीनी की खपत 2030 तक सालाना 850,000 टन से अधिक होने की उम्मीद है। इसलिए घाना में चीनी उद्योग को पुनर्जीवित करके कृषि और उद्योग दोनों में नौकरियों के अवसर निर्माण करने की योजना बनाई जा रही है ।वर्तमान में, चीनी दुनिया में सबसे अधिक कारोबार वाली वस्तुओं में से एक है।भले ही पिछले कुछ वर्षों में अंतरराष्ट्रीय कीमतें थोड़ी अस्थिर रही हैं, लेकिन चीनी की मांग अभी भी बहुत मजबूत है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here