और गिर सकती है अंतरराष्ट्रीय चीनी की कीमतें…

793

नई दिल्ली : चीनी मंडी

गन्ना और चीनी की बम्पर उत्पादन से देश में ख़ुशी की लहर दौड़ने के बजाय घरेलू और वैश्विक बाजार में चीनी घटती कीमतों ने पुरे चीनी उद्योग के सामने समस्या का पहाड खड़ा कर दिया है. चीनी उद्योग के लिए और बुरी खुबर है की चीनी कीमतों में और भी गिरावट आने की सम्भावना जताई जा रही है |

ब्राजील में चीनी की दरें एतिहासिक निचले स्तर पर
ब्राजील में चीनी की दरों की कमी ने एतिहासिक स्तर छू लिया है, इससे चीनी उद्योग की हालत और भी बदतर होने की आशंका जताई जा रही है | न्यूयॉर्क के वायदा बाजार में कच्ची चीनी की कीमतें पिछले १० सालों के निचले स्तर पर है, अमेरिका में कच्ची चीनी की दरें १.८ % फिसलकर प्रति पौंड १०.११ सेंट्स हुई है. अमेरिका में जून २००८ के बाद ये सबसे निचला स्तर है. वैश्विक बाजार में अगर यही हालात बने रहे तो फिर कीमतें और ८ सेंट्स निचे गिरने की सम्भावना न्यूयॉर्क स्थित केपिटल मनेजमेंट संस्था के व्यवस्थापकीय भागीदार निक जेंटल ने जताई है | उन्होंने कहा, इससे पहले २००४ में चीनी की दरें इससे भी निचे फिसली थी |

विकसनशील देश चपेट में…
आयएनटीएल एफसी स्टोनच्या रिस्क मॅनेजमेंट कन्सल्टंट ज्युलीओ सेरा ने अपने एक साक्षात्कार में टर्की में चल रही आर्थिक गतिविधियों का हवाला देते हुए सेरा ने कहा की, एक-दुसरे पर निर्भर रहनेवाले विकसनशील देशों की अर्थव्यवस्था में तनाव देखा जा रहा है, इसके चलते उसका सबसे जादा परिणाम कृषी क्षेत्र पर हो रहा है. ब्राझील आणि कंबोडिया की मुद्रा में भारी गिरावट देखि जा रही है, उसके चलते दोनों देशों में किसानों को बिक्री के लिए सरकार से हर मुमकिन कोशिश की जा रही है.

ब्राजील की निर्यात २४ % घटी
वैश्विक बाजार में चीनी अतिरिक्त होने से और ब्राजील में चीनी की दरें १० सालों के औसतन निचले स्तर पर जाने से चीनी उद्योग में ब्राजील का दबदबा कम होने की भी आशंका है, अगले कुछ हप्तों में ब्राझील की बंदरों में दस लाख मेट्रिक टन साखर शिपिंग की जाने वाली है, शिपिंग एजन्सी के विल्यम्स केअनुसार पिछले कई सालों की निर्यात देखि जाए तो ये स्टॉक उसके आधा है, २००८ के बाद यह सबसे कम स्टॉक है. ब्राझील के वाणिज्य मंत्रालय के द्वारा जारी की गई प्रेस नोट के हिसाब से, ब्राजील की जुलाई में पिछले साल की तुलना में निर्यात २४ % घटी है.
सुकडेन की ब्राझील युनिट के संचालक जर्मे जॉन ऑस्टिन ने कहा की, चीनी के बड़े ग्राहकों ने इससे पहले ही चीनी खरीद रखी है, अब वो चीनी की डरे और जादा गिरने का इंतजार क्र रहे है.

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here