गोवा: संजीवनी चीनी मिल बंद होने के बाद किसान ने शुरू की गुड़ इकाई

79

पणजी: गोवा के गन्ना किसान ‘आत्मनिर्भर’ होते दिखाई दे रहें है, क्योंकि संजीवनी चीनी मिल बंद होने के बाद 58 वर्षीय उदय प्रभुदेसाई ने गुड इकाई शुरू की है। प्रभुदेसाई ने कहा, पहले किसानों को गन्ना पेराई के लिए मिल पर निर्भर होना पड़ता था, लेकिन अब उन्होंने किसानों को गुड इकाई का विकल्प दिया है। उन्होनें कहा की, मैंने एक-डेढ़ साल पहले तक संजीवनी मिल को गन्ना भेजा था, लेकिन मिल बंद होने के बाद, मेरी फसल बर्बाद होने वाली थी। अन्य किसान अपनी फसल को गोवा के बाहर के मिलों में भेज रहे हैं। लेकिन, मैंने ‘आत्मानिर्भर भारत, स्वयंपूर्ण गोवा’ का नया विचार लाया, और अपनी खुद की गुड़ इकाई स्थापित करने का फैसला किया।

उनकी बेटी ने हाल ही में महाराष्ट्र के दापोली में कृषि महाविद्यालय से शिक्षा हासिल की है और जैविक खेती में उनके बेटे की गहरी दिलचस्पी ने भी प्रभुदेसाई की संभावनाओं को बढ़ाने में मदद की। अब वह गोवा में जैविक गुड़ के कुछ उत्पादकों में से एक होने का दावा करते है। उन्होंने कहा, “गोवा में ज्यादातर इकाइयों में गुड़ बनाने की प्रक्रिया जैविक है, लेकिन गन्ने की खेती जैविक नहीं होती है। उन्होंने कहा, पिछले तीन वर्षों में मैंने अपने खेतों में किसी भी रसायन का इस्तेमाल नहीं किया है। गन्ने की फसल जैविक है, और जैविक गुड़ का उत्पादन किया जाता है। प्रभुदेसाई ने आगे कहा की, मुझे बिचौलियों और किराने की दुकानों के माध्यम से गुड़ बेचने में कोई दिलचस्पी नहीं है क्योंकि इससे लागत अधिक होती है। जो खरीदार रुचि रखते हैं, उन्हें इकाई में आना होगा और इसे सीधे खरीदना होगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here