सरकार का आश्वासन: गोवा की इकलौती चीनी मिल नहीं होगी बंद

208

गोवा में गन्ना किसान संजीवनी चीनी मिल के बंद होने के खबर के बाद से ही गुस्से में है। जिसके बाद राज्य सरकार उनका गुस्सा शांत करने की कोशिश कर रही है। 2 अगस्त को, सरकार ने ऑल गोवा सुगरकेन प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (AGSPA) को आश्वासन दिया कि मिल बंद नहीं होगी और कहा कि भले ही गन्ना पेराई सत्र शुरू करने में देरी होगी, लेकिन सरकार किसानों और उनके गन्ना उत्पादन का ध्यान रखेगी।

इससे पहले, इससे पहले, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा था, “इस मौसम में गन्ने का उत्पादन करने वालों को कोई नुकसान नहीं होगा। सरकार इन किसानों को समर्थन मूल्य प्रदान करने के अलावा, उनका गन्ना खरीदेगी और अन्य राज्यों में चीनी मिलों को आपूर्ति करेगी। ”

विधायक प्रसाद गोनकर के नेतृत्व में गन्ना उत्पादकों के प्रतिनिधिमंडल ने शुक्रवार को विधानसभा परिसर में सीएम सावंत से मुलाकात की और उन्हें गन्ना किसानों की पीड़ा से अवगत कराया। संजीवनी चीनी मिल जो गोवा की इकलौती चीनी मिल है, उसपर बहुत सारे गन्ना किसान निर्भर है।

गन्ने की अनुपलब्धता और विभिन्न कारणों से मिल ने 101.22 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया है। सरकार मिल को जारी रखने की व्यवहार्यता का अध्ययन करने के बाद मिल से संबंधित कोई भी निर्णय लेगी।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here