गोवा: संजीवनी चीनी मिल शुरू होने का किया जा रहा इंतजार

68

पोंडा : गोवा की एकमात्र संजीवनी चीनी मिल यांत्रिक समस्याओं और गन्ने की कमी के कारण कई सालों से बंद है। संजीवनी चीनी मिल बंद करने के फैसले से न केवल गन्ना किसान बल्कि मिल के मजदूर, परिवहन ठेकेदार और मिल पर निर्भर अन्य कर्मचारी भी प्रभावित हुए हैं। सरकार ने मिल को फिर से शुरू करने का वादा किया है, लेकिन अब तक आधिकारिक तौर पर कुछ स्पष्ट नहीं है। चीनी मील से जुड़े लोग इसकी प्रारंभ होने की इंतजार में है।

गोवा सरकार ने मिल के काम की समीक्षा के लिए एक विशेष पैनल का गठन किया था और दक्षिण गोवा के पूर्व सांसद नरेंद्र सवाइकर को उसका अध्यक्ष नियुक्त किया था। सवाईकर ने कहा, एथेनॉल परियोजना शुरू करने की प्रक्रिया पूरी हो गई है और रिपोर्ट सरकार को सौंप दी गई है।

वर्तमान में सरकार घाटे में चल रही इकाई को एक लाभदायक उद्यम में बदलने के लिए एथेनॉल प्लांट स्थापित करने पर सोचविचार कर रही है। गन्ना किसान संघ के अध्यक्ष राजेंद्र देसाई ने कहा, हर गन्ना उत्पादक चाहता है कि संजीवनी मिल को फिर से शुरू किया जाना चाहिए और सरकार के आश्वासन के चलते उन्हें इसे फिर से शुरू होने की उम्मीद है। गोवा के किसानों को मिल बंद होने से अपनी उपज कर्नाटक के खानापुर तहसील में स्थित लैला चीनी मिल को बेचनी पड़ी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here