गन्ना मजदूरों के लिए खुशखबरी; किया गया कल्याण बोर्ड का गठन

1411

आगामी विधानसभा चुनाव की घोषणा से पूर्व महाराष्ट्र सरकार ने गन्ना मजदूरों के लिए कल्याणकारी बोर्ड का गठन किया। ताकि वे कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) और कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) आदि जैसे दूसरे सामाजिक सुरक्षा का लाभ प्राप्त कर सकें। इस बोर्ड का नाम स्वर्गीय भाजपा नेता गोपीनाथ मुंडे के नाम पर रखा गया है, हालाँकि, श्रम विभाग के अधिकारियों को इसकी स्थिरता की चिंता है क्योंकि फंडिंग एक समस्य बन सकती है।

पिछले सप्ताह राज्य सरकार के श्रम विभाग ने बोर्ड का गठन करके केशवराव अंधाले को अध्यक्ष नियुक्त किया। एक अधिकारी के अनुसार बोर्ड के गठन और उसके कामकाज के बारे में शीघ्र ही बोर्ड के अध्यक्ष से सलाह-मशविरा करके तय किया जाएगा।

अधिकारी ने आगे बताया कि बोर्ड की स्थापना का विचार गन्ना मजदूरों को वित्तीय सुरक्षा के साथ साथ उनके जीवन स्तर में सुधार लाना है। राज्य में लगभग 8 लाख गन्ना कर्मचारी राज्य में 188 सहकारी और निजी चीनी मिलों में गन्ना काटने, कटाई और परिवहन में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि हमने गन्ना श्रमिकों के विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के लिए सरकार से लगभग 140 करोड़ रुपये मांगे हैं। लेकिन यह बोर्ड तभी प्रभावी ढंग से कार्य कर सकता है जब उसके पास अपनी आय के स्रोत हो।

कल्याण बोर्ड का गठन यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here