पुराना एवं सूखा गन्ना आपूर्ति करने वाले किसानों का बंद किया जायेगा सट्टा

718

लखनऊः मार्च 2, 2020: पूर्वी उत्तर प्रदेश के अन्तर्गत उ.प्र.राज्य चीनी निगम की इकाई पिपराईच (गोरखपुर) एवं मुण्डेरवा (बस्ती) तथा सहकारी चीनी मिल संघ की सठियाव (आजमगढ़) चीनी मिल की स्थापना की गयी है। चीनी मिलों द्वारा माह नवम्बर, 2019 से पेराई कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। यद्यपि चीनी मिलों को अब धीरे-धीरे अपनी क्षमता के अनुरूप गन्ना मिलना शुरू हो गया है, लेकिन ताजा, स्वच्छ गन्ना आपूर्ति न होने की स्थिति में अपेक्षित चीनी परता प्राप्त नही हो पा रहा है।

चीनी मिलों द्वारा किसानों से ताजा अगोला एवं जड़ रहित रोगमुक्त गन्ना आपूर्ति करने के संबंध में अपील की गयी है। मिल परिसर में गन्ना के भौतिक परीक्षण के साथ-साथ रिफ्रेक्टोमीटर द्वारा भी जाॅच प्रारम्भ कर दी गयी है। मिलों को पुराना सूखा गन्ना आपूर्ति किये जाने के स्थिति में गन्ना मूल्य भुगतान के संबंध में धारा-46 मेें दिये गये प्राविधानों के अन्तर्गत आवश्यक कार्यवाही की जायेगी। यह भी निर्णय लिया गया है कि यदि परीक्षण के दौरान गन्ना पुराना या सूखा पाया गया तो ऐसा गन्ना स्वीकार नही किया जायेगा तथा ऐसे गन्ना कृषकों का सट्टा बन्द कर दिया जायेगा।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here