सरकार अब नई चीनी मिलों की अनुमति रोक सकती है : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी

754

सांगली : चीनी मंडी

भारत इस साल गन्ना सीझन में दुनिया का शिर्ष चीनी उत्पादक देश बनने की सम्भावना है, लेकिन ऐसी हालत में देश की सरकार और चीनी उद्योग दोनों अधिशेष चीनी समस्या से लढ़ रहे है । चीनी के गिरते दाम और किसानों का बढ़ता बकाया भुगतान राजकीय गलियारों का भी प्रमुख मुद्दा बना हुआ है । चीनी उद्योग को राहत देनें के लिए केंद्र और राज्यों की सरकारों द्वारा नये नये कदम उठाये जा रहे है, लेकिन फिर भी अतिरिक्त चीनी उत्पादन अभी भी समस्या का कारण बना हुआ है । इसके चलते केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि, सरकार चीनी के अधिक उत्पादन के मुद्दे से बचने के लिए नई चीनी मिलों की अनुमति रोक सकती है।

गडकरी सतारा और सांगली जिलों में विभिन्न अवसंरचना और जल आपूर्ति परियोजनाओं की आधारशिला रखने के लिए दौरे पर थे। सतारा में उन्होंने कहा, जब पानी की उपलब्धता बढ़ जाती है, तो किसान गन्ने की फसल उगाना शुरू कर देते हैं। इसने गन्ने के अतिरिक्त उत्पादन के मुद्दे को जन्म दिया है और इसलिए सरकार आने वाले दिनों में नए चीनी मिलों को अनुमति देना बंद कर सकती है। केंद्र सरकार ने नई चीनी नीति तैयार की है, इसके तहत गन्ने से इथेनॉल के उत्पादन को बढ़ावा देने की योजना बनाई है। भारत सरकार इथेनॉल खरीदने के लिए तैयार है और इसलिए किसानों और मिल संचालकों को अब इथेनॉल का उत्पादन करना चाहिए।

सांगली में, गडकरी ने कहा कि किसानों को गन्ना उगाना बंद करना चाहिए। ब्राजील ने अतिरिक्त चीनी का उत्पादन बंद कर दिया है। यदि अतिरिक्त चीनी का उत्पादन होता है, तो हमें अब इसे समुद्र में डंप करना होगा क्योंकि अधिशेष से निपटने का कोई अन्य तरीका नहीं है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चीनी की कीमतें घटकर रु .20 प्रति किलो चीनी पर आ जाने के बाद भी हमने चीनी की कीमत 34 रुपये प्रति किलोग्राम तय की है।

बेहतर गन्ना मूल्य के लिए आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों को अब विरोध करना बंद कर देना चाहिए। अब से, गन्ना उद्योग के लिए किसी भी वित्तीय पैकेज की घोषणा नहीं की जा सकती है। हालांकि, हम इथेनॉल को प्रति लीटर रु .55 पर खरीदने के लिए तैयार हैं। किसानों को अपने शुष्क खेत की भूमि पर जटरोफा की खेती शुरू करनी चाहिए। इसके बाद जैव ईंधन का उत्पादन किया जा सकता है।
सांगली में मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने आरोप लगाया कि, पिछली सरकारों में भ्रष्टाचार के कारण सिंचाई योजनाएं अधूरी रह गईं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) -शिव सेना सरकार के दौरान सिंचाई परियोजनाएँ शुरू हुईं और अब पिछले चार वर्षों में हमने 400Km पाइपलाइन कार्य पूरा कर लिया है। सिंचाई परियोजनाएं सौर ऊर्जा से बिजली उपलब्ध कराएंगी और किसानों को सौर पंप भी प्रदान किए जाएंगे।

आयात ऊर्जा के लिए 8-10 लाख करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा खर्च…

सरकार द्वारा इथेनॉल खरीददारी मूल्य में बढ़ोतरी के चलते तेल विपणन कंपनियों के लिए इथेनॉल खरीदना महंगा है, सरकार ने किसानों के कल्याण के लिए इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा देने के साथ-साथ ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए समग्र दृष्टिकोण लिया है। सरकार कच्चे तेल, एलएनजी और अन्य उत्पादों को आयात करके ऊर्जा मांग को पूरा करने के लिए 8-10 लाख करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा खर्च करती है।

इथेनॉल क्षमता बढ़ाने के लिए चीनी मिलों को सॉफ्ट लोन प्रदान…

सरकार ने इथेनॉल क्षमता बढ़ाने के लिए आवेदन के पहले समूह को सॉफ्ट लोन प्रदान किए हैं और यह दूसरे समूह के लिए ऋण मंजूर करने के लिए प्रतिबद्ध है। जून में, सरकार ने अतिरिक्त गन्ना को अवशोषित करने के लिए इथेनॉल उत्पादन क्षमता के निर्माण के लिए 4,440 करोड़ रुपये के सॉफ्ट लोन को मंजूरी दी। इसमें पांच साल की अवधि में 1,332 करोड़ रुपये का ब्याज सबवेंशन होगा, जिसमें एक वर्ष की अधिस्थगन अवधि भी शामिल है।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here