गन्ना बकाया भुगतान को लेकर प्रशासन ने ३ मिल मालिकों पर उठाया कड़ा कदम

0
865

जिला प्रशासन ने पिछले महीने, लगभग 7,000 क्विंटल चीनी, तीन कार्यालयों और सिकरी खुर्द में एक फार्म हाउस को जब्त (अटैच ) किया । मोदीनगर तहसीलदार राज बहादुर सिंह ने कहा, डिस्टिलरी यूनिट से जब्त स्टॉक की कीमत लगभग 10 करोड़ रुपये है।

गाजियाबाद / हापुड़ : चीनी मंडी

गन्ना बकाया भुगतान करने से बचनेवाली 3 मिल मालिकों की प्रॉपर्टी गाजियाबाद जिला प्रशासन ने जब्त कर दी। एएमआईडी किसानों ने गन्ना बकाये का भुगतान नहीं करनेवाली चीनी मिलों का विरोध शुरू किया है । राज्य सरकार ने तीन चीनी मिलों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है, जो वसूली प्रमाण पत्र जारी करने के बावजूद राशि चुकाने में विफल रहीं। गाजियाबाद जिला प्रशासन ने सोमवार को मोदीनगर चीनी मिल के पांच बैंक खातों को जब्त कर लिया है, जिसमें 150 करोड़ रुपये का बकाया है।

जिला प्रशासन ने पिछले महीने, लगभग 7,000 क्विंटल चीनी, तीन कार्यालयों और सिकरी खुर्द में एक फार्म हाउस को जब्त किया था। मोदीनगर तहसीलदार राज बहादुर सिंह ने कहा, डिस्टिलरी यूनिट से जब्त स्टॉक की कीमत लगभग 10 करोड़ रुपये है। मोदी इंडस्ट्रीज लिमिटेड के मालिक उमेश मोदी गाजियाबाद में मोदीनगर चीनी मिल और बागपत में मलकपुर चीनी मिल चलाते हैं।

जिला गन्ना अधिकारी (डीसीओ) डीके सैनी ने कहा कि, इस बीच, बुलंदशहर जिला प्रशासन की टीम ने वेव शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के मुख्य महाप्रबंधक का कार्यालय अटैच कर दिया, जिसका 24 करोड़ रुपये बकाया है। सदर सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट अरविंद सिंह ने कहा, अगर बकाया भुगतान नहीं किया जाता तो हमने उन्हें गिरफ्तार करने और बैंक खातों को जब्त करने की चेतावनी दी है।

हापुड़ जिला प्रशासन ने सिंभौली में दो मिलों से जब्त की गई चीनी की नीलामी की प्रक्रिया शुरू कर दी है। हापुड़ डीसीओ ओम प्रकाश सिंह ने कहा कि, सिम्भावली शुगर मिल्स लिमिटेड का 121 करोड़ रुपये बकाया है और इसकी बृजनाथपुर इकाई को 71 करोड़ रुपये का भुगतान करना है। हापुड़ के सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट सत्य प्रकाश सिंह ने कहा कि उन्होंने पिछले महीने सिम्भावली शुगर मिल से 1.25 क्विंटल चीनी और बृजनाथपुर यूनिट से लगभग 70,000 क्विंटल जब्त किया था।

डाउनलोड करे चिनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp    

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here