“चीनी मिलों को नुकसान न हो इसके लिए सरकार बफर स्टॉक बनाने के अलावा उपयुक्त अन्य निर्णय लेगी”

2173

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

नयी दिल्ली 08 जून: वर्ष 2018-19 के दौरान प्रमुख फसलों की पैदावार के अग्रमि अनुमानों पर चर्चा करते हुए केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि केन्द्र सरकार की किसान हितैषी नीतियों की वजह से देश में प्रमुख फसलों का उत्पादन बढ़ने के संकेत है। कृषि मंत्री ने गन्ने की फसल के उत्पादन आकंडो पर चर्चा करते हुए कहा कि 2018-19 में गन्ने की फसल का पूर्वानुमान दर्शाया गया है जो शुभ संकेत है।

कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा गन्ना मिलों को सख्त निर्देश दिए जाने के बाद उन्होने समय पर गन्ना किसानों का बकाया दिया और जिससे अगले साल गन्ने की बुआई समय पर हुई और खेती करने में किसानों को खाद बीज के लिए आर्थिक तंगी नहीं हुई, यही वजह है कि सभी स्थितियाँ अनुकूल रहने की वजह से उत्पादन बढ़ने के आंकडे आ रहे है।

कृषि मंत्री ने कहा कि मुझे ज्ञात हुआ है कि गन्ना का उत्पादन 400 मिलियन टन से भी अधिक होने की संभावना जताई जा रही है जो बीते साल की तुलना में अधिक है।

कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि गन्ने के अधिक उत्पादन होने की स्थिति में सरकार पूरी मॉनिटरिंग करेगी और राज्यो से संवाद करने के साथ मिलों को निर्देश देगी कि किसानों का गन्ना औने पौने दामों में न ख़रीदे। मंत्री ने तय रेट से कम में गन्ना लेने वाले के खिलाफ कार्यवाही करने की बात भी कही। कृषि मंत्री ने कहा कि अधिक गन्ना उत्पादन होने की स्थिति मे चीनी का सरप्लस भी बढ़ेगा ऐसे में चीनी मिलों को नुकसान न हो इसके लिए सरकार चीनी खरीद कर बफर स्टॉक बनाने के अलावा जो भी ज़रूरी हों वो समयानुकूल उपयुक्त अन्य निर्णय लेगी।

कृषि मंत्री ने गन्ने के वैकल्पिक उपयोग करने और प्रसंस्करण कर अन्य तरह से आर्थिक लाभ लेने के तरीक़ों पर भी जोर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here