हरियाणा: बीकेयू प्रमुख चारुनी की नजरबंदी के बाद किसानों ने दिल्ली-अमृतसर हाईवे को किया जाम

117

अंबाला: भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रमुख गुरनाम सिंह चारुनी को हिरासत में लिए जाने के बाद प्रदर्शन कर रहे किसानों के एक समूह ने सोमवार देर रात शंभू टोल प्लाजा पर दिल्ली-अमृतसर राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर दिया। चारुनी को सोमवार को उस समय हिरासत में लिया गया, जब वह लखीमपुर खीरी जा रहे थे। बाद में उन्हें मेरठ के किठौर पुलिस स्टेशन से रिहा कर दिया गया। जहां हरियाणा बीकेयू प्रमुख चारुनी को हिरासत में लिया गया था, वहां पुलिस लाइन के बाहर किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया।

मेरठ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) प्रभाकर चौधरी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, हरियाणा बीकेयू प्रमुख गुरनाम सिंह चारुनी मेरठ के रास्ते लखीमपुर खीरी जा रहे थे। लखीमपुर खीरी के उनके दौरे से कानून-व्यवस्था की स्थिति प्रभावित हो सकती है क्योंकि लखीमपुर खीरी में दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 लागू कर दी गई है। गुरनाम सिंह चारुनी को सीआरपीसी की धारा 149 के तहत हिरासत में लिया गया था। उसे अब रिहा कर दिया गया है।

लखीमपुर खीरी में रविवार को किसानों के विरोध प्रदर्शन में एक कार की टक्कर के बाद भड़की हिंसा में कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने रविवार को एक बयान जारी कर इस घटना के संबंध में चार किसानों की मौत का दावा किया था और आरोप लगाया था कि चार किसानों में से एक किसान की केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे-आशीष मिश्रा ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।जबकि अन्य किसानों को कथित तौर पर उनके वाहनों ने कुचल दिया था।हालांकि, आशीष मिश्रा ने एसकेएम के आरोपों का खंडन किया और कहा कि वह उस जगह पर मौजूद नहीं थे जहां घटना हुई थी।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here