खराब पैदावार के कारण हरियाणा के गन्ना किसानों को हो सकता है भारी नुकसान…

126

चंडीगढ़: हरियाणा के गन्ना उत्पादकों को इस साल नुकसान हो सकता है क्योंकि कीटों के हमले से फसल की पैदावार बुरी तरह प्रभावित हुई है।

हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक, करनाल के नीलोखेड़ी में 13 एकड़ में गन्ने की खेती करने वाले किसान परवीन कुमार ने कहा, मैंने अब तक एक एकड़ की फसल ली है और पिछले साल के 400 क्विंटल से औसत उपज 250 क्विंटल प्रति एकड़ से कम हो गई है। यमुनानगर के एक अन्य किसान रोशन लाल ने कहा कि, वह इस साल अपने 26 एकड़ से गन्ने की खेती में लगभग 30-35% फसल के नुकसान की उम्मीद कर रहे है। उन्होंने कहा की, मैंने पिछले 20 वर्षों में इतना बड़ा नुकसान कभी नहीं अनुभव किया है। मुझे लगता है कि इस साल ज्यादातर किसान दूसरी फसलों की ओर रुख करेंगे और गन्ने की खेती छोड़ देंगे।

इसके अलावा, इस साल उत्पादन लागत में वृद्धि हुई है क्योंकि उन्हें अपनी फसल की रक्षा के लिए कीटनाशकों पर खर्च करना पड़ा, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। हरियाणा राज्य के कृषि विभाग के आंकड़ों से पता चलता है कि, गन्ने का रकबा पिछले साल के 99,000 हेक्टेयर से बढ़कर 1.10 लाख हेक्टेयर हो जाने के बावजूद, राज्य में गन्ने का उत्पादन पिछले साल के 85.32 लाख टन के मुकाबले घटकर 84.50 लाख टन रहने की संभावना है। आंकड़ों के अनुसार, अधिकारियों को पिछले साल के 861 क्विंटल से 768 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की उम्मीद है जो 2016-17 के बाद से सबसे कम है। राज्य में सभी सहकारी और निजी चीनी मिलों में पेराई का काम शुरू हो चुका है, चीनी मिलों के अधिकारियों ने कहा कि कम उपज के कारण, राज्य की अधिकांश मिलों को निर्धारित लक्ष्य पूरा करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here