गन्ना किसान 22 अगस्त को कर सकते है आंदोलन

731

अंबाला: हरियाणा में बढ़ते गन्ने के बकाया ने गन्ना किसानों को वित्तीय संकट में डाल दिया है। किसानों ने गन्ना बकाया के लिए आंदोलन शुरू करने की धमकी दी है। गन्ना उत्पादक नारायणगढ़ शुगर मिल्स लिमिटेड के खिलाफ गुस्से में हैं क्योंकि उन्हें गन्ने का बकाया नहीं मिला है। उन्होंने गन्ने के बकाए को लेकर नारायणगढ़ में महापंचायत का आयोजन किया और बकाया भुगतान के लिए 22 अगस्त की समयसीमा निर्धारित की। इस दौरान बड़ी संख्या में पहुंचे किसानों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। किसानों ने चीनी मिल को चेतावनी दी है की अगर बकाया नहीं चुकाया गया तो उन्हें क्रोध का सामना करना पड़ेगा।

महापंचायत की सूचना मिलने के बाद, उप-मंडल मजिस्ट्रेट, नारायणगढ़, सहित सरकारी अधिकारी मौके पर पहुंचे और किसानों के साथ चर्चा की।

चीनी मिल पर अभी भी लगभग 100 करोड़ रुपये गन्ना किसानों का बकाया है, और राज्य सरकार की गारंटी पर बैंक 50 करोड़ रुपये का ऋण देने के लिए सहमत हो गयी हैं। गन्ना किसानों को आश्वासन दिया गया है कि जल्द ही मिल द्वारा उनका बकाया भुगतान कर दिया जाएगा।

यदि मिल बकाया चुकाने में विफल रहती है, तो मामला बिगड़ने की संभावना है क्योंकि किसान इस मुद्दे को लेकर प्रदर्शन कर सकते है।

अदिति, सीईओ, जिला परिषद ने एक प्रमुख समाचार वेबसाइट से बात करते हुए कहा, “मिल को हरको बैंक से 50 करोड़ रुपये का ऋण मिलेगा। जल्द से जल्द किसानों के बकाए को समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है।”

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here