पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने माना सरकार से हुई “चीनी संकट” से निपटने में लापरवाही

167

लाहौर: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने स्वीकार किया कि उनकी सरकार से चीनी के कीमतों में वृद्धि के संकट से निपटने में “लापरवाही” हुई है। साथ ही, उन्होंने चीनी की कमी और मूल्य वृद्धि मामले की जांच कराने और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बात भी कही।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत स्थित गवर्नर हाउस में शनिवार को हेल्थ इंश्योरेंस कार्ड के वितरण समारोह में बोलते हुए इमरान ने कहा कि वे स्वीकार करते हैं कि इस मामले में सरकार से लापरवाही हुई। अब धीरे-धीरे यह साफ होता जा रहा है कि कुछ लोगों ने अपने लाभ के लिए कृत्रिम रूप से मूल्य वृद्धि की। सरकार चीनी के इस कृत्रिम संकट की जांच करके पता लगा रही है कि इसमें कौन शामिल था। उन्होंने वादा किया कि इन संकट के लिए जो भी जिम्मेदार है, सरकार उसे नहीं छोड़ेगी।

इमरान ने कहा कि सरकार एक ऐसी प्रणाली बना रही है जिससे उन उत्पादों की पहचान की जा सकेगी जिनकी निकट भविष्य में कम आपूर्ति होने की संभावना हो। फिर उसी हिसाब से सरकार उक्त संभावित खाद्य संकट से निपटने की तैयारी करेगी, जिसमें संबंधित उत्पाद का आयात करना भी शामिल होगा।

बता दें कि पिछले महीने कम आपूर्ति की आशंका के बाद देशभर में चीनी की कीमतें आसमान छूने लगी थीं। तब सरकार ने कहा था कि वह संकट से निपटने की हरसंभव कोशिश कर रही है, जबकि विपक्ष ने आरोप लगाया था कि सरकार ने इस संकट से निपटने की कोई पुख्ता तैयारी नहीं की।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here