बैंकों द्वारा किसानों को गन्ने की दूसरी किस्त देने में कोताही

691

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

परभणी : चीनी मिलों द्वारा किसानों की दूसरी किस्त की राशि बैंक में जमा कर दी गई है। हालाँकि, बैंकों द्वारा गन्ने की दूसरी किस्त किसानों को देने में कोताही बरती जा रही है, जिससे किसानों में काफ़ी गुस्सा है। पूर्णा तालुका में बड़ी संख्या में गन्ना उत्पादक हैं। वसमत में पूर्णा सहकारी चीनी मिल, गंगाखेड में गंगाखेड शुगर, पूर्णा में बलीराजा चीनी मिल और भाऊराव सहकारी चीनी मिल को इस साल काफी मात्रा में गन्ना भेजा गया हैं। चीनी मिलों ने सीझन की शुरुवात में ही गन्ने का पैसा दो से तीन चरणों में देने का फैसला किया था।

पूर्णा सहकारी मिल ने गन्ने के लिए 2175 रूपये दर घोषित किया था, मिल प्रबंधन ने किसानों को 1870 रुपये की पहली किस्त दी थी और मिल द्वारा जिला केंद्रीय बैंक शाखा में 320 रुपये की दूसरी किस्त जमा की जा रही है। किसान गन्ने की दूसरी किस्त लेने के लिए बैंक में भीड़ लगा रहे हैं। हालांकि, बैंक में पैसे उपलब्ध नहीं होने के कारण किसानों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। पैसे नहीं मिलने के पीछे, बैंक का सर्वर बंद होने का कारण दिया जा रहा है। किसानों को होने वाली असुविधा को दूर करने की मांग की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here