भारत में मानसून पूर्व बारिश में बड़ी कमी

744

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

भारत के अधिकांश क्षेत्रों में इस मानसून पूर्व मौसम शुष्क बना हुआ है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, भारत में मार्च और मई के बीच 99 मिलीमीटर (मिमी) बारिश हुई, जो इस वर्ष के दौरान सामान्य बारिश से 23 प्रतिशत कम है।

साप्ताहिक रिपोर्ट के विश्लेषण में यह पाया गया की, भारत में 36 में 20 राज्यों में 30 मई से 5 जून, 2019 के बीच कम बारिश दर्ज की गई है।

आईएमडी के रिकॉर्ड के अनुसार, देश में 30 मई से 5 जून, 2019 के बीच केवल 20.1 मिमी बारिश हुई, जो सामान्य बारिश की तुलना में 40 प्रतिशत कम है।

लगभग दो-तिहाई क्षेत्रों में इस अवधि के दौरान महत्वपूर्ण गिरावट देखी गई है।

आईएमडी द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, 13 राज्यों में बहुत ज्यादा बारिश की कमी हुई, सात राज्यों में थोड़ी बारिश की कमी हुई, नौ राज्यों में सामान्य बारिश हुई, दो राज्यों में अधिक बारिश हुई, एक राज्यों में अधिक से ज्यादा बारिश हुई, और चार राज्यों में बारिश नहीं हुई। यह आकड़ा 30 मई से 5 जून, 2019 के बीच का है।

इस अवधि के दौरान उत्तर-पूर्व, उत्तर-पश्चिम, मध्य और दक्षिण भारत में बारिश में महत्वपूर्ण कमी देखी गई। गोवा, महाराष्ट्र, हरियाणा, पांडिचेरी, उत्तर प्रदेश में 90 प्रतिशत से ऊपर सबसे अधिक कमी देखि गयी, जबकि अनुराचल प्रदेश और मणिपुर में 80 प्रतिशत से अधिक कम बारिश नजर आयी।

इन राज्यों में सबसे ज्यादा बारिश की कमी: अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मिजोरम, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, पांडिचेरी, केरल, और लक्षदीप।

इन राज्यों में थोड़ी कम बारिश: असम, नागालैंड, सिक्किम, पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, अंडमान निकोबार

इन राज्यों में सामन्य बारिश: त्रिपुरा, झारखंड, चंडीगढ़, मेघालय, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक

इन राज्यों में अधिक बारिश: बिहार और ओडिशा

इस राज्यों में अधिक से ज्यादा बारिश: जम्मू और कश्मीर

इस राज्यों में बारिश नहीं हुई: दिल्ली, गुजरात, दादर और नगर हवेली

स्काईमेट वेदर ने बारिश में कमी के लिए अल-नीनो को जिम्मेदार ठहराया है।

प्री-मॉनसून वर्षा कई क्षेत्रों के लिए महत्वपूर्ण है। ओडिशा जैसे राज्यों में, इस तीन महीने की अवधि में जुताई की जाती है, जबकि पूर्वोत्तर भारत और पश्चिमी घाटों के कुछ हिस्सों में फसल रोपण के लिए वर्षा की आवश्यकता होती है। यह हिमालय के वन क्षेत्रों में सेब के रोपण में मदद करता है।

आईएमडी के अनुसार, अगले 24 घंटों के दौरान मॉनसून के केरल में आने की संभावना है।

आईएमडी ने हाल ही में 31 मई को बयान जारी किया, जिसमें कहा गया था कि 2019 के दक्षिण-पश्चिम मानसून सीजन (जून से सितंबर) के लिए पूरे देश में बारिश सामान्य होने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here